Pehchan Faridabad
Know Your City

संसद में विधेयक पारित होने पर किसानों में दिखी खुशी प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री का माना आभार

संसद में कृषि सुधार के विधेयक पारित होने पर दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के सैकड़ों किसानों ने केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का उनके नई दिल्ली स्थित निवास पर अभिनंदन किया। साथ ही, उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार माना। इस अवसर पर तोमर ने कहा कि नए कानून किसानों के जीवन में खुशहाली लाएंगे। साथ ही, उन्हें शोषण से मुक्ति दिलाएंगे।

सड़क से लेकर संसद तक किसान बिल के मुद्दे पर जमकर राजनीति और हंगामा हो रही है। हर दल किसानों कि फिक्रमंदी की बिसात पर अपनी सियासी चालें चल रहा है। कोई बिल को पुनर्विचार के लिये सिलेक्ट कमेटी को भेजने की जिद कर रहा है तो कोई इसे किसानों के लिये डेथ वारंट बता रहा है।

इन सब के बीच केन्द्र सरकार द्वारा कृषि बिल को पारित किए जाने के बाद विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर एवं केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी से मुलाकात कर बड़ी संख्या में किसानों के साथ अभिनंदन कर उनका आभार जताने उनके आवास पर गए थे। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि भारत कृषि प्रधान देश है, जब से देश में मोदी सरकार आई है किसानों के हित में ही फैसले लिए गए। कृषि विल पारित होने के बाद विधेयकों के माध्यम से किसानों की आय दोगुनी होगी और साथ ही उन्हें भूमि सुरक्षा भी दी गई।

वहीं, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी का कहना है कि मोदी सरकार का हर फैसला किसानों के हित में है, लेकिन विपक्ष कृषि से जुड़े विधेयकों को लेकर किसानों और व्यापारियों को गुमराह कर रहा है।

तो वहीं, संसद में कृषि सुधार के विधेयक पारित होने पर बागपत लोकसभा क्षेत्र के करीब 93 गांव के 100 से अधिक किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने डॉ. सत्यपाल सिंह के नेतृत्व में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से दिल्ली के कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आवास पर मुलाकात की। मेरठ, गाजियाबाद और दिल्ली और अन्य जिलों सहित किसानों ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का आभार व्यक्त किया। साथ ही, उन्होंने पीएम मोदी का आभार माना है।

किसान हित में समर्पित इस बिल की खूबियां सरकार की शिद्दत और दूरदर्शिता का प्रमाण है लेकिन, कुछ पार्टियां हैं जो किसानों को इस पर भरोसा करने से रोक रही हैं और विपक्ष इस बिल पर किसानों को भ्रमित कर रहा है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More