HomeUncategorizedव्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को...

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट

Published on

अगर आपने भी खाए मोमोज तो भुगतना पड़ेगा। जी हां, ऐसा हो सकता है, क्योंकि इन दिनों जो कुछ भी चाइना की तरफ से भारत में डिलीवर हो रहा है, उससे देश और देश के लोग भुगत ही तो रहे हैं। अब इसमें नया क्या है। क्योंकि दिनोदिन जो भी देखा, सुना जा रहा है उससे तो मानो यही लग रहा है कि हमें खुद पर कंट्रोल नहीं रहा है। हम दूसरों से तो खूब चाइनीज़ वस्तुओं को इस्तेमाल ना करने की अपील करते हैं, लेकिन जब बात खुद पर आती है तो हम इसपर अमल करना भूल जाते हैं।

चलिए अब ज़रा बात मोमोज की कर लिजिए, आपने भी मोमोज़ खाए तो बहुत होंगे। वैसे अब तो भारत में ही मोमो जैसी चीज़ बनाई जाने लगी है।

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट
Photo by Buenosia Carol on Pexels.com

तो फिर आप इसे चाइना का नहीं बल्कि भारत का मोमोज भी कह सकते हैं लेकिन इजात तो ये चाइना में ही हुआ है इसलिए इसे चीन का सामान ही कहा जाएगा।

वैसे इन दिनों मोमोज से जुड़ी एक ऐसी ख़बर निकलकर सामने आई है जिसे पढ़कर शायद आप जीवन में कभी भी मोमोज़ ना खाएं, वैसे ऐसा होना मुमकिन है। बतादें कि एक शख्स ने ठेले से चिली सॉस से भरे मोमोज़ खाए और फिर आधी रात अचानक से हुआ ऐसा धमाका कि धमाके से युवक का पेट ही फट गया।

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट
Photo by bishop tamrakar on Pexels.com

मोमोज़ वैसे तो ज्यादातर नेपाल और चीन में ही खाया जाता है। लेकिन अब भारत के भी कई इलाकों में सड़कों पर लोगों को ठेले से मोमोज़ खाते देखा जा सकता है।

इस डिश ने काफी कम समय में भारत में अपनी जगह बनाई है। लाल तीखी चटनी और म्योनीज के साथ मोमोज़ का स्वाद कैसे कोई भूल सकता है। लेकिन अगर आपको भी मोमोज़ को तीखी लाल चटनी में डुबोकर खाना पसंद है, तो ज़रा सावधान हो जाएं।

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट

ये आपको काफी महंगा पड़ सकता है। जी हां ऐसा ही कुछ हुआ चीन में रहने वाले एक शख्स के साथ। उसके साथ जो हुआ उसके बाद उसे तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ा। जहां उसका हाल देख डॉक्टर्स भी हैरान रह गए। दरअसल ये मामला चीन जिंयांग्सू प्रांत से सामने आया है।

यहां रहने वाले एक शख्स, जिसकी पहचान मिस्टर वांग के रूप में हुई, जिसे लाल मिर्च वाली चटनी में मोमोज डुबोकर खाना महंगा पड़ गया। दरअसल, शख्स ने रात को डिनर में मोमोज खाए थे। उसने मोमोज को लाल चटनी में डुबोकर खाया। तीखी मिर्च वाली इस चटनी को शख्स ने बड़े चाव से खाया। लेकिन कुछ दी देर बाद उसके पेट में तेज दर्द उठा था।

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट

अचानक उसके पेट में कुछ धमाके होने लगे। जिसके बाद उसकी तबियत बेहद खराब हो गई। जिसके बाद उसकी तबियत बेहद खराब हो गई। लेकिन कुछ ही देर बाद उसके पेट में तेज दर्द उठा था।

अचानक उसके पेट में कुछ धमाके होने लगे। जिसके बाद उसकी तबियत बेहद खराब हो गई। डॉक्टर्स ने बताया कि वांग को पहले से ही पेट सम्बंधित बीमारी थी।

व्यक्ति ने ठेले से खाए चिली सॉस से भरे मोमोज, रात को अचानक धमाके के बाद फट गया पेट

इस कारण डॉक्टर्स ने उसे तीखा खाने से मना किया था। लेकिन उसने नहीं माना और उसकी जान खतरे में पड़ गई। अगर आप को भी तीखा खाने की आदत है तो आप भी थोड़ा सा सतर्क और सावधान हो जाइए क्योंकि तीखा खाना आपकी सेहत को बिगाड़ सकता है।

अगर आप अपने स्वास्थ्य को ठीक रखना चाहते हैं तो आपको अपने खाने का ख्याल सबसे पहले रखना होगा, क्योंकि अगर आप ऐसा-वैसा खाना खाते हैं तो इसका सीधा असल आपकी सेहत पर ही पड़ता है। कई बार ज्यादा तीखा खाने से आपकी जान पर बन आ सकती है, इसलिए अपने खाने का खास ख्याल रखिए और सेहतमंद बने रहिए।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...