HomeFaridabadनहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे...

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

Published on

क्षेत्र में दिवाली को लेकर हर कोई उत्साहित है। महामारी के दौर में भी त्योहारों के प्रति उत्साह देखते बनता है। पर बीमारी के चलते बहुत सारे व्यवसाय कर्मियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दिवाली के समय पर सबसे ज्यादा नुकसान पटाके बेचने वाले व्यवसाय कारियों को हुआ है।

हाल फिलहाल बढ़ते हुए प्रदूषण के मापदंड को मद्देनजर रखते हुए सरकार के हवाले से पटाखों की रोकथाम के आदेश निकाले गए हैं। प्रशासन द्वारा यह साफ किया जा चुका है कि कोई भी व्यक्ति पटाकों का उत्पादन करता पाया गया उसके खोलाफ़ कार्रवाई की जाएगी।

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

खट्टर सरकार द्वारा यह फरमान हाल फिलहाल ही जारी किया गया है। बढ़ते प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार सख्त कदम उठा रही है। ऐसे में पटाके के व्यवसाय से जुड़े दुकानदारों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

फरीदाबाद क्षेत्र में जो पटाखे बेचने वाले गत वर्ष तक बड़े बड़े पटाके बेचा करते थे उन्हें इस साल काफी निराशा झेलनी पड़ रही है। आपको बता दें कि बहुत सारे दुकानदार अब बच्चों के पटाखे और खिलौने बेच कर अपना गुजारा कर रहे हैं। सेक्टर 16 में इन छोटे व्यवसाय कर्मियों द्वारा इन पटाकों एवं खिलौनों के स्टाल लगाए गए हैं।

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

दुकानदारों का कहना है कि ग्राहक भी पटाके खरीदने से बच रहे हैं। बड़े पटाखों की बिक्री से उन्हें ज्यादा मुनाफा होता था, पर सरकार के फैसले ने उन्हें बच्चों के पटाखे बेचने को मजबूर कर दिया है। इन छोटे पटाकों की बिक्री से उन्हें खास मुनाफा नही होगा और लोग भी बच्चों वाले पटाके खरीदने से बचते हैं। दुकानों में कोई ग्राहक आकर राजी नही है, सुबह से गल्ला खाली पड़ा है।

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

एक दुकानदार से बात करने पर पता चला की 10 घंटे में उन्होंने महज़ 70 रुपये की कमाई की है। प्रशासन ने प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए फैसला ले लिया है परंतु उनके इस फैसले ने कई लोगों का दिवाला निकाल दिया है।

नहीं हो रही बिक्री खाली पड़ा है गल्ला, अब बच्चों वाले पटाखे बेच कर अपना काम चला रहे हैं दुकानदार

महामारी को ध्यान में रखते हुए प्रशासन द्वारा त्योहारों के समय पर आला कदम उठाए जाने की बात कही जा रही है। आपको बता दें कि दिवाली से पहले ही फरीदाबाद में प्रदूषण का स्तर काफी बड़ा हुआ है। ऐसे में प्रशासन प्रदूषण के बढ़ते दर को देखकर काफी चिंतित है इसलिए यह कदम उठाया जा रहा है।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...