Pehchan Faridabad
Know Your City

पटाखें ना जलाने के लिए चलाया जाएगा एंटी क्रेकर्स अभियान, घर-घर से जाकर आरडब्ल्यूए करेगी जागरूक

दिल्ली एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए जहां एक तरफ सरकार द्वारा केवल 2 घंटे के लिए पटाखे चलाने के आदेश दिए गए हैं। वहीं कुछेक संस्था भी बाहर निकल कर आ रही हैं जो आमजन को पटाखे ना जलाने के लिए जागरूक करेगी।

जिसमें अब कन्फेडरेशन आफ आरडब्ल्यूए आमजन को पटाखे नहीं जलाने को लेकर एंटी क्रेकर्स अभियान चलाकर जागरूक करने में अपनी एक अहम भूमिका अदा करेंगे।

इसी कड़ी में अब कन्फेडरेशन आफ आरडब्ल्यूए की ओर से सभी आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों को वाट्सएप से मैसेज फॉरवर्ड कर दिया गया है। मैसेज में इस बात को भी जिक्र किया गया है कि सभी आरडब्ल्यू जितने भी वाट्सएप ग्रुप से जुड़ी हैं,

सभी पर पटाखे ना जलाने वाले जागरूकता भरे मैसेज भेजे जाएं। इतना ही नहीं जल्द कन्फेडरेशन के पदाधिकारी इस बाबत आनलाइन बैठक आयोजित करेंगे।

जिसमें इस जागरूकता कार्यक्रम को और प्रभावी बनाए जाने की रूपरेखा तैयार की जाएगी। बताते चलें कि दिल्ली-एनसीआर में पहले ही एनजीटी ने पटाखे बेचने व जलाने पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा चुका है।

कन्फेडरेशन आफ आरडब्ल्यूए के महासचिव ए.के . गुलाटी ने कहा कि शहर में लगातार प्रति वर्ष प्रदूषण का स्तर बहुत बढ़ जाता है। जिसके चलते अच्छे खासे दुरुस्त लोग भी कई प्रकार की बीमारियों की गिरफ्त में आ जाते है। खासकर बात करें तो बुजुर्गो की।

बुजुर्गों की स्वास्थ संबंधी परेशानियां अधिकांश मामले सामने आते हैं। वही छोटे बच्चों को आंखों में जलन जैसी समस्या भी परेशान करती है।

उन्होंने कहा कि यह सब जानने के बावजूद भी अगर पटाखे जलाए जाते हैं तो यह परेशानियां कम होने की जगह बढ़ती जाएंगे। उन्होने बताया की इसलिए सभी आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों को कहा गया है कि वह अपने-अपने सेक्टर में टीम गठित कर घर घर जाकर बच्चों से लेकर बड़े पटाखे ना जलाने के लिए अभी प्रेरित करेंगे।

कन्फेडरेशन के चेयरमैन एनके गर्ग, उपचेयरमैन गजराज नागर, सेक्टर-29 आरडब्ल्यूए से सुबोध नागपाल, सेक्टर-11 से एसडी शर्मा ने बताया कि प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए हम सभी की जिम्मेदारी बनती है कि पटाखे कतई न जलाएं और न ही किसी को जलाने दें। इसके लिए आमजन को जागरूक किया जाए।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More