HomeReligionमहामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय...

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

Published on

छठ पूर्वांचलियों का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है। छठ पूजा हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को होती है। इस बार छठ पूजा, 20 नवंबर यानी शुक्रवार को हैं। छठ पूजा,का प्रारंभ दो दिन पूर्व चतुर्थी तिथि को नहाय खाय से होता है, फिर पंचमी को लोहंडा ओर खरना होके ता है।

उसके बाद षष्ठी तिथि को पूजा होती है। जिसमे सूर्य देव को शाम का अर्घ्य अर्पित किया जाता है।इसके बाद अगले दिन सप्तमी को सूर्योदय के समय में उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं और फिर पारण करके व्रत को पूरा किया जाता है। तिथि के अनुसार छठ पूजा चार दिनों की होती है।आइये जानते हैं छठ पूजा के चार दिनों के बारे में

पहला दिन: नहाय खाय-

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

नहाय खाय छठ पूजा का पहला दिन होता है। इस वर्ष नहाय खाय 18 नवंबर दिन बुधवार को है। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:46 बजे ओर सूर्योस्त शाम को 05:26 पर होगा।

दूसरा दिन: लोहंडा ओर खरना-

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

लोहंडा ओर खरना छठ पूजा का तीसरा दिन होता है। इस वर्ष लोहंडा ओर खरना 19 नवंबर दिन गुरुवार को है। इस दिन सूर्योदय सुबह 06: 47 बजे पर होगा ओर सूर्योस्त शाम को 05: 26 पर होगा।

तीसरा दिन: छठ पूजा , सन्ध्या अर्घ्य-

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

इस वर्ष छठ पूजा 20नवंबर को हैं। इस दिन सूर्योदय 06:48 बजे पर होगा ओर सूर्योस्त 05:26 बजे होना है। छठ पूजा के लिए षष्ठी तिथि का प्रारम्भ 19 नवबंर को रात 09:59 बजे से हो रहा है, जो 20 नवंबर को रात 09:29 बजे तक है।

चौथा दिन सूर्योदय अर्घ्य, पारण का दिन-

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

इस वर्ष छठ पूजा का सूर्योदय अर्घ्य तथा पारण 21 नवंबर को होगा। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:49 बजे तथा सूर्योस्त शाम को 05:25 बजे होगा।

छठ पूजा से जुड़ी कुछ जरूरी बातें

छठ पूजा के लिए महिलाएं प्रसाद बनाती है, लेकिन इस दौरान सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए ओर न ही उसे छूना चाहिए। इस दिन महिलाएं सूर्य देव को अर्घ्य देती है लेकिन ध्यान रहे की जिस बर्तन से अर्घ्य दिया जाए वो गिलास, प्लास्टिक,चांदी, या स्टेनलेस स्टील न हो। प्रसाद बनाने के लिए खाना बनाने वाले चुल्हे या जगह का उपयोग नही करना चाहिए हो सके तो अलग से किसी चूल्हे पर प्रसाद बनना चाहिए।

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

जो लोग छठ का व्रत रखते हैं उन्हें बेड पर नही सोना चाहिए। व्रत वाले दिन फर्श पर हल्का फुल्का बिस्तर बिछाकर सोना चाहिए। इस दिन गन्दे कपड़े नही पहनने चाहिए मान्यता है कि इस दिन साफ सुथरे ओर नए कपड़े पहनने चाहिए। छठ के पर्व पर किसी से लड़ाई नही करनी चाहिए और न ही किसी को अपशब्द बोलना चहिये।

महामारी के दौर में कैसे की जाएगी छठ पूजा, पूजन के समय पर इन चीज़ों का रखे ध्यान

अगर आप इस दिन व्रत रखते है तो बिना सूर्य देव को अर्घ्य दिए भोजन न खाए। पूजा के दौरान विशेष सामग्री का विशेष ध्यान रखना चाहिए क्योकि पूजा के समय इन पूजा सामग्री होना बेहद जरूरी माना जाता है।

written by : Sonali Chauhan

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...