Pehchan Faridabad
Know Your City

सीट ना बढ़ाकर छात्रों से पढ़ने का अधिकार छीन रही हैं खट्टर सरकार : कृष्ण अत्री

आज एनएसयूआई के बैनरतले छात्र-छात्राओं ने सभी कॉलेजों की स्नातक कक्षाओं में 20 प्रतिशत सीट बढ़वाने के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा की अनुपस्थिति में उनके भाई टिप्पर चंद को ज्ञापन सौंपा। यह ज्ञापन एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में सौंपा गया।

इस दौरान एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने कहा कि 20 प्रतिशत सीट बढ़वाने के लिए छात्र पिछले 15 दिनों से लगातार प्रयास कर रहे हैं लेकिन कोई सुनवाई नही हो रही हैं। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद के साथ-साथ अन्य जिलों में भी सीट बढ़ाने को लेकर प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

कृष्ण अत्री ने कहा कि सीट बढ़ाने की मांग को लेकर 2 नवंबर को एक प्रदर्शन किया गया था तथा पंडित जवाहरलाल नेहरू कॉलेज के प्राचार्य श्री एम० के० गुप्ता को उच्चतर शिक्षा विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के नाम ज्ञापन सौंपा था तथा इसके बाद 9 नवंबर को जिला उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन करके हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के नाम ज्ञापन सौंपा था और जब सुनवाई नही हुई तो 11 नवंबर को मैगपाई चौक पर प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और गृह मंत्री अनिल विज का पुतला भी फूंका था।

उन्होंने कहा कि कॉलेज प्रशासन से लेकर जिला प्रशासन का दरवाजा खटखटाने के बाद जब छात्रों की नही सुनी गई तो आज सत्ता रूढ़ पार्टी के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा को अपनी मांग से अवगत कराया हैं।

अत्री ने खट्टर सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार को छात्रों का शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करना रास नही आ रहा है अगर समय रहते सीट नही बढ़ी तो छात्र अब धरने देने और रोड़ो पर उतरने से भी पीछे नही हटेंगे। ऐसे में छात्रों को मांग को ध्यान में रखते हुए स्नातक कक्षाओं (बी.एससी, बी.कॉम, बी.ए, बीबीए, बीसीए) में 20% सीटें बढ़ाने की जरूरत है और सरकार को बिना विलंब के सीट बढ़ा देनी चाहिए।

इस मौके पर छात्र नेता महेश चौहान, काजल, प्रीति, अंशु, प्रिया, नितिन मित्तल, महेश शर्मा, अरबाज खान, लोकेश राजपूत, अंकुश, मनीष, नरेंद्र सिंह, सतीश, आकाश, तरुण, कुणाल, रंजन, ओमप्रकाश, तौहीद खान, अमरिंदर, रजनीश, कपिल, संदीप राठौड़, भूपेंद्र, दिनेश, ललित ठाकुर,आसिफ अली, साहिल कौशिक आदि मौजूद थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More