Online se Dil tak

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

प्रदूषण का स्तर खतरनाक तरीके से बढ़ता जा रहा है जो प्रदेश सरकार के लिए चिंता का विषय है। फरीदाबाद समेत दिल्ली एनसीआर के शहरों में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। तकरीबन सभी इलाके रेड जोन मैं आ रहे हैं और वायु गुणवत्ता स्तर साडे 300 के भी पर बना हुआ है। इसी बीच हवा की दिशा बदलने से और बारिश होने से राहत तो मिली है लेकिन वायु प्रदूषण की समस्या अभी भी बनी हुई है।

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त
गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

वायु प्रदूषण को शिकस्त दे सकता है सिर्फ 100 ग्राम गुड़

गुड़ का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभदायक बताया जाता है। इतना ही नहीं बुजुर्ग, बच्चे और डायबिटीज की बीमारी के मरीज भी गुड़ का सेवन निश्चिंत होकर कर सकते हैं। वायु प्रदूषण के चलते आमतौर पर लोगों में अस्थमा ब्रोंकाइटिस और अन्य बीमारियों की शिकायत होती है ऐसे में गुड एक जड़ी बूटी का काम करता है।

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त
गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

स्वास्थ्य विशेषज्ञों और जानकारों की माने तो वायु प्रदूषण से पीड़ित लोगों को 100 ग्राम गुड़ अवश्य खाना चाहिए। गुड़ का सेवन कुछ इस प्रकार किया जाए तो वह और भी लाभदायक होता है। एक चम्मच मक्खन में 100 ग्राम गुड़ और हल्दी मिलाकर इसका सेवन करने से प्रदूषण का असर कम हो जाता है।

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त
गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

ऐसा जानकारों का मानना है गुड़ की सबसे बड़ी खूबी यह है कि यह शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ हो और टॉक्सिंस को बाहर निकालता है और बॉडी को टोक्सिन-फ्री बनाता है। गुड़ को सरसों के तेल में मिलाकर खाने से सांस संबंधी परेशानी से भी राहत मिलती है।

गोडसे होगी फेफड़ों की रक्षा

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त
गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

बढ़ता वायु प्रदूषण ना सिर्फ रेस्पिरेट्री सिस्टम को बल्कि सबसे ज्यादा फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में लोगों को रोजाना भोजन के साथ गुड़ खाना चाहिए गुड में रोगप्रतिकारक शक्ति होती है जो बढ़ते प्रदूषण से लड़ने में लाभदायक है।

गुड एक, लाभ अनेक

गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त
गुड़ खाएं और खुद को प्रदूषण से बचाएं, जानें कैसे सिर्फ 100 ग्राम गुड़ दे सकता है बीमारियों को शिकस्त

सैकड़ों सालों से गुड़ भारतीय खानपान का हिस्सा रहा है पहले जमाने के बूढ़े बुजुर्ग भोजन के बाद अक्सर गुड़ का सेवन करते थे और यही कारण है जिसकी वजह से उनका पाचन तंत्र दुरुस्त रहता था।

गुड़ खाने से शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट भी ठीक रहता है।

अस्थमा के रोगियों और सांस संबंधी तकलीफों से जूझ रहे लोगों को गुड़ का सेवन अवश्य करना चाहिए।

डायबिटिक लोग भी निश्चिंत होकर गुड़ का सेवन कर सकते हैं।

शरीर में टॉक्सिन को बाहर निकाल सकता है गुड़ का सेवन साथी गुड एक ब्लड प्यूरीफायर के तौर पर भी काम करता है।

Read More

Recent