HomeSpecialहरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल...

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

Published on

देश में कई युवा अपनी अनोखी पहल के जरिये नए रिकॉर्ड स्थापित कर रहे हैं। हरियाणा के गांव दौलतपुर की चाइल्ड चैपियन अंजू वर्मा ने अनूठी पहल को कायम रखते हुए अपने ग्राम के सभी बच्चों को स्कूल भेजना शुरू किया है।

इस कदम को उठाने के लिए हर तरफ अंजू की तारीफ़ में कसीदे पढ़े जा रहे हैं। अंजू अपने द्वारा उठाए गए इस कदम से बाल मजदूरी को कम करना चाहती हैं। उन्होंने बताया कि उनका लक्ष्य दौलतपुर ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा को सशक्त बनाने का है।

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

अंजू ने बताया कि हर रविवार को चाइल्ड चैंपियन टीम गाँव का दौरा करती है और बाल मजदूरी करने वाले बच्चों को स्कूल भेजा जाता है। अंजू ने बताय कि “जब मैं छोटी थी तो देखती थी कि मेरे कई दोस्त होमवर्क नहीं कर पाते थे और इस बात के लिए उसने उन्हें हमेशा स्कूल में दंड मिलता था। जब मैंने उनसे पूछा कि वह होमवर्क क्यों नहीं करते, तो उन्होंने कहा कि उनके पास घर के बहुत सारे काम हैं और उन्हें कई बार जानवरों का चारा काटने से लेकर गोबर तक उठाना पड़ता है, जिसकी वजह से होमवर्क नहीं हो पाता। ”

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

इसके बाद अंजू ने लगातार इन बच्चों की समस्या के बारे में सोचा और इसका समाधान निकालने के प्रयास में जुट गईं कि कैसे उनकी पढ़ाई पूरी हो सके। इसके बाद अंजू ने इन बच्चों के माता पिता से बात की और उनको यह समझाने की कोशिश की वे पैरंट टीचर मीटिंग में जाएं और वहां जानने की कोशिश करें कि उनके बच्चे का पढ़ाई लिखाई में कैसे हैं।

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

इस मीटिंग में जाने से उनके आत्मसम्मान को बहुत चोट पहुंची और उन्होंने बच्चों से घर का काम छुड़वाकर उनकी पढ़ाई में ध्यान लगाना शुरू करवा दिया। अंजू ने बताया कि बहुत से बच्चों के माता-पिता गरीबी के चलते बच्चों को स्कूल नहीं भेज पाते, जिससे उनका भविष्य अधर में लटक जाता है और बच्चा सही रास्ता नहीं चुन पाता।

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

अंजू ने बताया कि उनका यही मकसद है कि हर बच्चा पढ़े और विकास पथ पर आगे बड़े। शुरुआती सफलता से उत्साहित होकर अंजू ने इस काम को वास्तव में मिशन लेवल पर करना शुरू कर दिया है। उन्होंने अपने ग्राम में पता किया कि पंद्रह सौ बच्चों में से कितने घर में काम करने की वजह से अपनी पढ़ाई लिखाई नहीं कर पाते।

हरियाणा की इस लड़की ने चमका दिया अपने गांव का भविष्य, बाल मजदूरी से मुक्त कर बच्चों को भेज रही है स्कूल

अब उन्होंने एक एनजीओ बुलंद उड़ान बनाकर इस काम को आगे बढ़ाने की मुहीम शुरू की है। अंजू का गांव बालश्रम से मुक्त हो चुका है, सभी बच्चे विद्यालय जा रहे हैं।

अंजू की सफलता के बाद उन्हें पहचान मिलने लगी है और अब उन्हें दूसरे शहरों में भी बुलाया जाने लगा। अंजू के माता-पिता भी यह समझते हैं कि वह जो काम कर रही है उससे उनके परिवार का सम्मान में इजाफा हो रहा है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...