Pehchan Faridabad
Know Your City

कृषि कानूनों को लेकर होने वाले विरोध प्रदर्शन से निपटने के लिए हरियाणा सरकार उठाए ये खास कदम

कृषि सुधार कानूनों को लेकर विभिन्न किसान संगठनों द्वारा 26 नवंबर को दिये गये दिल्ली चलो आह्वान के दृष्टिगत हरियाणा सरकार ने हर प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए एहतियात के तौर पर सभी आवश्यक कदम उठाने का निर्णय लिया है।

हरियाणा के मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन आज ‘प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी दिल्ली चलो’ कॉल के दौरान कानून और व्यवस्था बनाए रखने के संबंध में मंडलायुक्तों, अम्बाला, सिरसा, फतेहाबाद, जींद, कैथल, कुरुक्षेत्र और पंचकूला के जिला उपायुक्तों एवं जिला पुलिस अधीक्षकों के साथ से हुई समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में विडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं वित्तायुक्त श्री संजीव कौशल, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक निगम ने भी हिस्सा लिया।

मुख्य सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस विभाग को सभी आवश्यक कदम उठाने होंगे और सूचनाओं का आदान-प्रदान बेहतर ढंग से करना होगा ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना को रोका जा सके । इसी प्रकार, पीने के पानी, मेडिकल किट, बिजली, टेंट व अन्य सभी मूलभूत सुविधाओं का वैकल्पिक प्रबंध करना होगा।

उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग द्वारा जिलों से समन्वय स्थापित करने के लिए कंट्रोल रूम बनाये जाएं । उन्होंने कहा कि जिला उपायुक्तों तथा पुलिस अधीक्षकों द्वारा मंडलायुक्तों एवं रेंज पुलिस महानिरीक्षकों के साथ समन्वय स्थापित करने एवं मिनिट-टू-मिनिट जानकारी गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक तथा मुख्य सचिव कार्यालय में दी जाए ।

उन्होंने कहा कि पंजाब से ज्यादा किसानों के दिल्ली जाने की संभावना है ऐसे में शंभु बार्डर पर विशेष निगरानी रखनी होगी। इसके अलावा घरौंडा, मुंढाल जहां पर अधिक किसानों के एकत्रित होने की संभावना है वहां अतिरिक्त पुलिस बल लगाया जाये। उन्होंने अन्य राज्यों से हरियाणा में आ रहे राजमार्गों पर बहुपरतीय बैरिकेटिंग करने के भी निर्देश दिये।

मुख्य सचिव ने कहा कि पांच राष्ट्रीय राजमार्ग, जो हरियाणा से दिल्ली की ओर जाते हैं, पर पैट्रोलिंग बढ़ानी होगी ताकि आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही बाधित न हो । इसके अलावा, सडकों के अवरूद्ध होने पर यातायात के लिए वैकल्पिक सडक़ों पर मोडऩे की भी व्यवस्था की जाये ताकि यात्रियों एवं जनता को असुविधा न हो। सभी पुलिस अधिकारी जिलों में मौजूद रहें। जहां-जहां किसान एकत्रित होंगे वहां कार्यकारी मजिस्ट्रेट तैनात किये जाएं । उन्होंने निर्देश दिए कि पुलिस बल के साथ राजमार्गों पर एंबुलेंस , डॉक्टरों एवं पैरामेडिकल स्टाफ को भी तैनात करें।

उन्होंने कहा कि जिलों में स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ की ड्यूटियां लगाई जायें ताकि आपात स्थिति में उनकी मदद ली जा सके। बैठक में श्री विजयवर्धन ने सूचना,जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि विभिन्न प्रचार एवं प्रसार माध्यमों के जरिए आमजन को किसानों के दिल्ली चलो आह्वान के दौरान सजग व सुरक्षित रहने हेतु जागरूक करें।

उन्होने आमजन से अनुरोध किया कि बहुत ही आवश्यक कार्य न हो तो वे दिनांक 25 नवंबर एवं 26 नवंबर को बाहर जाने से बचें ताकि उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, श्री वी उमाशंकर, गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजीव अरोड़ा, सूचना,जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती धीरा खंडेलवाल, पुलिस महानिदेशक श्री मनोज यादव तथा पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) श्री नवदीप सिंह विर्क के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More