HomeFaridabadनगर निगम को कर्जे में ढकेल रही हैं निजी एजेंसी,सवा तीन वर्ष...

नगर निगम को कर्जे में ढकेल रही हैं निजी एजेंसी,सवा तीन वर्ष बाद भी अधूरा है संपत्ति कर

Published on

नगर निगम पहले से ही कर्जे की मार चल रहा है। ऊपर से निजी कंपनियों का क्र न चुकाना नगर निगम को और भी कर्जे में दाल रहा है। सवा तीन वर्ष पूर्व नगर निगम क्षेत्र में निजी एजेंसी की ओर से शुरू किया गया संपत्ति कर सर्वे अब तक पूरा नहीं किया जा सका है। नगर निगम क्षेत्र में संपत्ति कर के दायरे में 2.62 लाख घर और अन्य संस्थान आते हैं।

नगर निगम को कर्जे में ढकेल रही हैं निजी एजेंसी,सवा तीन वर्ष बाद भी अधूरा है संपत्ति कर

पिछले कई वर्षों में 2.5 लाख से अधिक घर और वाणिज्यिक संस्थान बढ़ गए हैं। वाणिज्यिक संस्थान और औद्योगिक इकाइयां बढ़ने से निगम को हर वर्ष 200 करोड़ रुपये की आय का अनुमान हैं। नगर निगम का मौजूदा रिकार्ड देखें, तो इस समय संपत्ति कर से वर्ष भर में करीब 50 करोड़ रुपये राजस्व प्राप्त हो रहा है। जब निजी एजेंसी का सर्वे पूरा हो जाएगा और संपत्ति कर के दायरे में और संपत्तियां आ जाएंगी, ताे निगम की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।

बता दें कि शहर में वर्ष 2007-08 में संपत्ति कर सर्वे किया गया था। इसके बाद से शहर में कई आवासीय काॅलोनियाें और औद्योगिक इकाइयों की संख्या में इजाफा हुआ है। इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए सरकार ने निजी एजेंसी से संपत्ति कर सर्वे के लिए अनुबंध किया था। एजेंसी के कर्मचारियों ने घर-घर जाकर सर्वे शुरू किया था, मगर अब तक सर्वे पूरा नहीं हो पाया है। शुरुआती दौर में कई जगह विरोध भी सामने आया था। निगम के पास अभी तक ऐसा कोई रिकार्ड नहीं है, जिससे पता चल सके कि निगम क्षेत्र में वर्तमान में आवासीय, वाणिज्यिक तथा औद्योगिक कितनी संपत्ति है। सर्वे पूरा किए जाने के बाद ही सही तस्वीर सामने आएगी।

नगर निगम को कर्जे में ढकेल रही हैं निजी एजेंसी,सवा तीन वर्ष बाद भी अधूरा है संपत्ति कर

नियमयुक्त यश गर्ग का कहना है कि संपत्ति कर सर्वे का काम 90 फीसद से अधिक पूरा किया जा चुका है। हम प्रयास कर रहे हैं कि 31 दिसंबर तक सारा काम पूरा हो जाए। पूरे नगर निगम क्षेत्र का संपत्ति का डाटा आ जाएगा, तो हम संपत्ति कर लेना शुरू करेंगे। इससे राजस्व में बढ़ोतरी होगी।

बता दें कि पहले सरकार की ओर से 31 जुलाई तक ब्याज माफी योजना का लाभ लेने की छूट दी गई थी। बाद में इसे 31 दिसंबर तक कर दिया गया। इस योजना के तहत पिछले वर्षों की संपत्ति कर की बकाया राशि एक साथ जमा कराने पर ब्याज पर छूट है। ऐसे ही मौजूदा वर्ष का संपत्ति कर जमा कराने पर दस फीसद छूट का प्रावधान है। गुड टैक्स पेयर को दस फीसद अतिरिक्त छूट मिलती है। गुड टैक्स पेयर वे होते हैं, जो लोग पिछले तीन वर्षों से लगातार समय पर संपत्ति कर जमा कराते हैं। डा. यश गर्ग ने कहा कि बकायादारों को ब्याज माफी योजना का लाभ लेना चाहिए।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...