Online se Dil tak

नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक

फरीदाबाद के निवासी देवेंद्र पाल सिंह ने सेक्टर 9 की मार्केट स्थित एसबीआई बैंक में जमकर हंगामा किया। उन्होंने बैंक प्रांगण में आकर कर्मचारियों से अपना काम बीच मे अटकाने को लेकर कहासुनी की।

आपको बता दें कि देवेंद्र के पिता हरि सिंह का एसबीआई में खाता था। पिता की मृत्यु उपरांत उन्होंने बैंक खाते से पैसे निकालने की कवायद को शुरू किया। इसके चलते बैंक ने शुरुआती दौर में उनसे कुछ दस्तावेज़ जमा करवाने को कहा।

नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक
नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक

देवेंद्र ने झटपट सभी जरूरी दस्तावेज जमा करवा दीए। उन्हें उम्मीद थी कि जल्द से जल्द उनके पिता के पैसे परिवार के पास पहुंच जाएंगे। बैंक के कुछ क्लेम काटने के बाद एसबीआई में बचने वाला बकाया उनके परिवार को दिया जाना था।

नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक
नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक

आपको बता दें कि देवेंद्र की शिकायत है कि बैंक प्रणाली द्वारा उन्हें बरगलाया जा रहा है। सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज होने के बावजूद भी उन्हें बकाया राशी नहीं मिल पाई है। क्रमांक की बात करे तो बैंक ने देवेन्द्र के पिता के खाते से 7 लाख 70 हजार रुपये काट लिए है जबकि उन्हें 8 लाख 14 हजार का बकाया नहीं मिल पाया है।

नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक
नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक

उन्होंने बताया कि बैंक द्वारा कोई जवाब नहीं मिल पा रहा है। उन्हें बैंक से ऑब्जेक्श नोटिस आया है जो कहता है कि उनके दस्तावेज पूरे नहीं है। आपको बता दें कि देवेंद्र पिछले 2 महीनों से इस परेशानी का सामना कर रहे है।

नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक
नहीं मिल पाया बैंक से बकाया तो कटोरा लेकर प्रदर्शन पर बैठ गया युवक

उनहे बैंक की हेर फेर में रखा जा रहा है और उनकी परेशानी का निवारण नहीं हो पा रहा है। रोज परेशान होते होते अब देवेंद्र ने अकेले ही मोर्चा खोल बैठने का फैसला किया है।

वो अकेले ही अपने हाथ मे प्लेक कार्ड लेकर मोर्चा खोल बैठ गए है और साथ ही साथ उन्होंने एक बड़ा सा कटोरा भी लिया हुआ है। वो निरंतर रूप से अपने लिए इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं।

Read More

Recent