HomeIndiaकिसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त,...

किसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त, कॉल कर के मरीज का हो गया ऐसा हाल

Published on

भारत बंद के दौरान बाईपास पर किसानों द्वारा लगाए गए जाम में आम वाहनों के साथ एम्बुलेंस भी फास गए हैं। आंदोलन पर बैठे किसानों को जब भी एम्बुलेंस आती दिखी या फिर हूटर सुनाई दिया तब उन्होंने रास्ता खाली करवादिया।

साथ ही आंदोलनकारी किसान उन्हें रास्ता देकर आगे के लिए भी रवाना कर रहे थे। इस तरह किसानों ने जाम में फंसी 10 से ज्यादा एम्बुलेंस के लिए जाम को हटवाकर रास्ता बनवाया। वहीं बिना मरीज आई एक एम्बुलेंस को किसानों द्वारा बालौर चौक पर ही रोक लिया गया। चालक ने बार-बार गुहार लगाई कि वह मरीज को लेकर आएगा पर किसानों की एक ना सुनी।

किसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त, कॉल कर के मरीज का हो गया ऐसा हाल

एम्बुलेंस ड्राइवर ने किसानों को बार बार समझाया कि वह एक कॉल पर मरीज को लेने जा रहा है पर किसानों ने उसकी एक ना सुनी। अंत में एम्बुलेंस चालक को ही अपना रास्ता बदलना पड़ा और परेशानी का सामना करना पड़ा। मंगलवार को किसानों द्वारा बलौर चौक, नया गाँव चौक और जाखौड़ा मोड़ पर जाम लगाया गया।

किसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त, कॉल कर के मरीज का हो गया ऐसा हाल

जाम में फसे वाहनों को किसानों ने नहीं हटाया पर जैसे ही उन्होंने एम्बुलेंस की आवाज सुनी तो वह तुरंत रास्ता देने के लिए वहां से हट गए। आपको बता दें कि जाम लगाए बैठे किसानों को विशेष तौर से हिदायत मिली है कि किसी भी एम्बुलेंस को रोका ना जाए।

किसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त, कॉल कर के मरीज का हो गया ऐसा हाल

आपको बता दें कि पंजाब के मोघा से आए दूध को बर्फ बनाकर आंदोलन तक लाया गया है। 13 क्विंटल दूध आंदोलन में धरना दे रहे किसानों के लिए भिजवाया गया है ताकि लगातार गिरते पारे के बीच उनके खान पान में कोई कमी ना आए। दूध को बर्फ की तरह जमाकर बड़े बड़े वाहनों में टिकरी बॉर्डर तक पहुंचाया गया है ताकि वह खराब ना हो और पीने लायक बना रहे।

किसान आंदोलन में फसी एम्बुलेंस को नहीं मिली आगे जाने की इजाज़त, कॉल कर के मरीज का हो गया ऐसा हाल

आपको बता दें कि किसान आंदोलन के समर्थन में पूरे देश को बंद करने की मांग रखी गई थी। मंगलवार को किसानों द्वारा भारत बंद करने का एलान किया गया था। बात की जाए हरियाणा पंजाब की तो दोनों राज्यों से भारत बंद के एलान को पुरजोर समर्थन मिला है।

ऐसे में केंद्र सरकार के ऊपर दबाव बना हुआ है कि कैसे किसानों के काफिले को नियंत्रण में लाया जाए ताकि बिमारी के इस दौर में संक्रमण पर अंकुश लगाया जा सके।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...