HomeIndiaआंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और...

आंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और बच्चों से ज्यादा जरूरी है किसानों की लड़ाई

Published on

कृषि कानूनों को लेकर अन्नदाता इन दिनों सड़कों पर निकलकर प्रदर्शन कर रहे हैं। हर कोई सरकार द्वारा बनाए गए कानूनों की अवहेलना कर रहा है। लोगों का कहना है कि मोदी सरकार किसानों का हित भूल चुकी है जिसके चलते इन कानूनों का गठन किया गया है।

किसान समुदाय सब कुछ त्याग कर लगातार गिरते पारे के बीच सड़कों पर खेमा डाले बैठा है। दिल्ली आगरा नेशनल हाईवे पर गाँव अटोहा के पास किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। जहां यह प्रदर्शन पुरुष प्रधान नजर आ रहा है वहीं दूसरी ओर बुंदेलखंड से आई महिला किसान तारा देवी राजपूत ने अपने संकल्प से हर किसी के मुँह पर ताला मार दिया है।

आंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और बच्चों से ज्यादा जरूरी है किसानों की लड़ाई

आपको बता दें कि अटोहा के पास धरना दे रहे किसानों के बीच तारा देवी राजपूत अकेली महिला किसान हैं जो आंदोलन की शुरुआत से अभी तक अडिग हैं। वह अपने साथ प्रदर्शन कर रहे सभी किसान भाइयों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं।

आंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और बच्चों से ज्यादा जरूरी है किसानों की लड़ाई

जहां हर रोज महिलाएं आंदोलन में शामिल होती हैं और फिर वापस अपने घरों की ओर लौट जाती हैं उन सबके बीच तारा देवी ने अपने प्रयास से एक अलग पहचान बनाई है। वह न सिर्फ धरना दे रहे किसानों के साथ बैठती हैं पर पूर्ण रूप से अपनी मौजूदगी भी दर्ज करवाती हैं। बुंदेलखंड के महुआ जिले से ताल्लुख रखने वाली तारा देवी शाम तक धरने पर बैठी रहती हैं।

आंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और बच्चों से ज्यादा जरूरी है किसानों की लड़ाई

आंदोलन में हिस्सा लेने आए वक्ताओं की बातों को सुनती हैं और साथ ही पुरुषों के बीच वह अपने विचार भी साझा करती हैं। आपको बता दें कि तारा देवी पांचवी कक्षा तक पढ़ी हुई हैं पर उनका कहना है कि खेती करने के लिए उच्च तालीम की जरूरत नहीं होती। अपने खेत में काम करने वाला किसान अपना भला बुरा सब कुछ जानता समझता है।

आंदोलन में शामिल होने के लिए छोड़ दिया अपना परिवार, पति और बच्चों से ज्यादा जरूरी है किसानों की लड़ाई

तारा ने कहा कि सरकार का यह कहना कि किसानों को अपने नफ़ा नुक्सान के बारे में कोई ज्ञान नहीं है यह गलत है। तारा देवी राजपूत ने बताया कि वह जब अपने पति के साथ खेत में काम करती थीं तब उनको फसल की कीमत उतनी नहीं मिल पाती थी जिससे उनका गुजारा हो जाए।

न उनकी बचत हो पाती थी और ना ही बच्चों को अच्छी परवरिश मिल पा रही थी। ऐसे में 2014 के दौरान उन्होंने अपने परिवार से अनुमति लेकर किसानों के लिए काम करना शुरू किया और बुन्देलखंड किसान यूनियन से जुड़ गईं। वह तभी से किसानों के हक में लड़ाई लड़ रही हैं। वह अपनी मांगों को लेकर अडिग हैं और पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...