Online se Dil tak

डबल पेंशन पाने के लिए सबसे पुराने रेल गार्डों में से एक है ये बुजुर्ग, जानिए कितनी उम्र है इनकी

मध्य रेलवे के भुसावल मंडल के सेवानिवृत गार्ड केशव नरहर बापट के 100वें जन्मदिन पर रेल प्रबंधक विवेक कुमार गुप्ता ने प्रमाण-पत्र, शॉल और नारियल देकर सम्मानित किया। इसके अलावा रेलवे ने बापट के पेंशन को दोगुना करने का भी फैसला किया।

बता दे कि रिटायर होने वाले रेलवे गार्ड में सबसे ज्यादा उम्र के केशव नरहर बापट शनिवार को सौ साल के हो गए। वे सेन्ट्रल रेलवे में या पुरानी ग्रेट इन्डियन पेनीनस्युलर रेलवे में 1951 में सेवारत हुए थे।

नौकरी के 42 वर्ष के बाद वे सेवानिवृत्त हुए। सीआर अधिकारियों के अनुसार, बापट 1951 में GIPR में शामिल हुए, जो उसी वर्ष मध्य रेलवे में परिवर्तित हो गया। वह 1978 के आसपास एक गार्ड के रूप में सेवानिवृत्त हुए। अधिकारियों ने कहा कि बापट के परिवार के सदस्यों ने उन्हें बताया कि वह जीआईपीआर में शामिल होने से पहले सेना में थे।

वह द्वितीय विश्व युद्ध में लड़े और लड़ाई के दौरान कई देशों में गए। अधिकारियों ने कहा कि सेना से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद, वह रेलवे में शामिल हो गए, जहां उन्होंने ट्रेन गार्ड के रूप में काम किया। आपको बता दे कि केशव बापट ने फ़ौज में भी अपनी सेवा दी है। वहां से रिटायर होने के बाद वे रेलवे में नौकरी करने लगे थे। इस दौरान उन्होंने कई देशों का भ्रमण किया।

आर्मी में 7 साल की सेवा के उपरांत इन्होंने रेलवे नौकरी में आना पसंद किया। बापट ने अपने कार्यकाल के दौरान मेल एक्सप्रेस के गार्ड के रूप में बहुत ही सुंदर कार्य किया। यह जानकारी उनकी सेवा पुस्तक में दर्ज है।

Read More

Recent