Pehchan Faridabad
Know Your City

जानिए विश्व भर के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन की खोज में कहां तक पहुंचे ?

अमेरिका से लेकर चीन तक चीन से लेकर जर्मनी तक दुनिया भर के सभी वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए वैक्सीन का टीका खोजने के लिए हर घड़ी प्रयास कर रहे हैं। हालांकि विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि इस प्रक्रिया में अधिक समय लग सकता है। कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना वैक्सीन का टीका इस वर्ष के अंत तक आपातकालीन उपयोग के लिए तैयार हो सकता है। जिसके लिए अमेरिका के ट्रम्प प्रशासन ने “ऑपरेशन रैप स्पीड” की घोषणा की है ताकि जल्द से जल्द वैक्सीन का टीका तैयार हो सके।

वैक्सीन की खोज के लिए अधिकांश कार्यक्रम अपने प्रारंभिक चरण में हैं। सामान्य समय में, किसी दवा या वैक्सीन को मंजूरी देने की प्रक्रिया धीमी होती है। इसे तेज किया जा सकता है लेकिन अप्रत्याशित नुकसान पहुंचाने के जोखिम भी इसके साथ ही बढ़ जाते है। यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि शायद कोरोना की वैक्सीन के लिए एक से अधिक टीके का उपयोग करने पड़े जैसे 1950 के दशक के पोलियो महामारी में, वैज्ञानिकों ने रोग को मिटाने में मदद करने के लिए दो अलग-अलग प्रकार से इस माहमारी से निजात पाने के लिए दवाई खोजी थी, पहले एक इंजेक्शन और बाद में मौखिक बूँदें द्वारा पोलियो से लड़ा गया था।

वैक्सीन कि खोज में जुटे लोगो का दावा :-

जॉनसन एंड जॉनसन:-
सितंबर तक मानव परीक्षण शुरू करने की योजना जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बनाई गई है। वैक्सीन परीक्षण के लिए अमेरिकी सरकार के साथ 1 बिलियन डॉलर से अधिक धनराशि खर्च कर चल रहा है प्रोजेक्ट पर कार्य।

इनोवियो:-
इनोवियो ने अप्रैल में किए जाने अपने वैक्सीन परीक्षण को फिलहाल के लिए टाल दिया है लेकिन कंपनी इस साल गर्मियों में बड़े अध्ययन को लक्षित कर रही है।

मोड्रेना:-
अमेरिकी सरकार ने अपने उम्मीदवारो को टीका विकसित करने और परीक्षण करने के लिए इस कंपनी को लगभग 500 मिलियन डॉलर का फंड दिया है। इसके कंपनी के अध्यन अनुसार ये एक रोगी परीक्षण पर काम कर रहे है जिसके शुरुआती परिणाम मई के अंत या जून में उपलब्ध हो सकते हैं।

सिनोवाक:-
इस कंपनी का कहना है कि ये जिस टीके पर कार्य कर रहे है वह टीका वायरस के विभिन्न तनावों को बेअसर कर सकता है।

कैन्सिनो बायोलॉजिक्स:-
हांगकांग-सूचीबद्ध कंपनी ने वैक्सीन विकसित करने के लिए चीन की सेना के साथ काम शुरू किया है। यह टीके की खोज के लिए पहले ही वुहान में मानव परीक्षण शुरू कर चुके है।

सनोफी और ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन:-
सनोफी एक ऐसी तकनीक का परीक्षण कर रहा है जो पहले से ही एक फ्लू शॉट में उपयोग किया जाता है, जिसमें ग्लैक्सो कुछ सामग्री प्रदान करता है। रोगी परीक्षण इस वर्ष की दूसरी छमाही में शुरू हो सकता है।

इंपीरियल कॉलेज लंदन:-
इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने अपने वैक्सीन प्रोजेक्ट के लिए पर्याप्त धन प्राप्त कर लिया है और जून में नैदानिक ​​परीक्षण शुरू करने का लक्ष्य रखा है।

चीन के राष्ट्रीय बायोटेक:-
चीनी राज्य के स्वामित्व वाले ड्रगमेकर ने अप्रैल में नेत्रहीन, प्लेसबो-नियंत्रित मानव परीक्षणों का संचालन शुरू किया।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका :-
एस्ट्राजेनेका ने ऑक्सफोर्ड में शोधकर्ताओं द्वारा विकसित एक प्रायोगिक टीकाकरण करने के लिए सहमति व्यक्त की है। पहले से ही मनुष्यों में अध्ययन किया जा रहा है, यह वर्ष के मध्य तक दूसरे चरण के परीक्षणों तक पहुंच सकता है।

फिलहाल वर्तमान में विश्व भर की यह बड़ी कंपनियां है जो कोरोना की वैक्सीन के लिए दिन-रात कार्य कर रही है और जल्द से जल्द इस महामारी से निजात पाने के लिए टीके की खोज करने का दावा कर रही है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More