HomeFaridabadआंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके...

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

Published on

कृषि कानूनों के खिलाफ मोर्चा खोल बैठे किसानों की मुश्किलों में इजाफा होता जा रहा है। उत्तरी दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर के साथ साथ अब पलवल के पास बने केएमपी एक्सप्रेसवे पर किसानों ने अपना खेमा सजा लिया है। केएमपी बॉर्डर पर प्रदर्शन करने आए किसान देश के अलग अलग प्रदेशों से आंदोलन में हाजरी लगाने पहुंचे हैं।

आंदोलनकारी किसान मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा से आकर केएमपी एक्सप्रेसवे पर सरकार द्वारा बनाए गए तीन कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। लगातार गिरते पारे के बीच प्रदर्शन कर रहे किसानों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

पलवल से सटे केएमपी बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन की बात की जाए तो पिछले 7 दिनों में 700 किसान बीमार पड़ चुके हैं। किसान जुकाम, खांसी और तेज बुखार की चपेट में आ चुके हैं। आपको बता दें कि बीमार पड़े किसानों में से 80 फीसद किसान बुजुर्ग हैं।

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

धरना स्थल पर लगे स्वास्थ्य शिविर से चिंताजनक स्तिथि सामने आई है। लगातार बीमार पड़ रहे किसानों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। 7 दिसंबर से हरियाणा सरकार द्वारा दिए गए आदेशों का निर्वाह करते हुए आंदोलन में स्वास्थ्य शिविर लगाया गया है।

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

किसी भी तरीके की हलकी बिमारी के लिए अगर चिकित्सक की जरूरत पड़ती है तो उसका इलाज आंदोलन में लगे स्वास्थ्य कैंप में करा दिया जाता है। पर अगर कोई भी व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार पड़ता है तो उसे पास में बने अस्पताल में रेफर कर दिया जाता है।

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

स्वास्थ्य शिविर के महकमे से खबर सामने आई है कि कोई भी किसान अभी गंभीर रूप से बीमार नहीं पड़ा। पर स्वास्थ्य केंद्र अधिकारियों का कहना है कि रोज 100 से ज्यादा किसान बीमार पड़ रहे हैं। रोज किसी न किसी किसान को स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

आंदोलन में हुआ बिमारी विस्फोट सात सौ से ज्यादा किसान पड़ चुके हैं बीमार, जांच करवाने से कर रहे है मना

साथ ही साथ स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि प्रदर्शन में मौजूद किसान महामारी के संक्रमण की जांच नहीं करवा रहे। जब कोई भी बीमार किसान इलाज के लिए आता है और उसे जांच करवाने ही हिदायत दी जाती है तब वह किसान फट से मना कर देते हैं। ऐसे में मेडिकल टीम और खुद आंदोलन में बैठे किसानों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...