HomeFaridabadसूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती...

सूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती धूप में लगने वाला है मेला

Published on

फरीदाबाद के विख्यात सूरजकुंड मेले के आयोजन पर संशय की तलवार लटकी हुई थी। पर्यटन विभाग की तरफ से भी इस पूरे मामले को लेकर किसी ने आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की। आपको बता दें कि पर्यटन विभाग ने सूरजकुंड आयोजन को लेकर चुप्पी साध रखी थी।

महामारी के इस दौर में किसी भी नेता या राजनेता के महकमे से भी आयोजन को लेकर कोई फरमान सामने नहीं आया था। जहाँ हर बार मेले के आयोजन की तैयारी अगस्त माह से शुरू हो जाती थी वहीं इस बार किसी भी रूप से मेले के आयोजन को बल नहीं मिल पाया है। कुछ दिन पूर्व क्षेत्र के टूरिज्म कमिश्नर ने बताया था कि इस बार मेले के आयोजन को लेकर किसी भी तरीके की बैठक नहीं हो पाई।

सूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती धूप में लगने वाला है मेला

इसी के चलते न मेले का थीम बन पाया नाही किसी ने मेले की तैयारियों को लेकर की जाने वाली तैयारियों को तूल दिया है। आपको बता दें कि सूरजकुंड को फरीदाबाद की शान कहा जाता है। मेले में देश विदेश से आए बहुत सारे अभिभावक हिस्सा लेते हैं जिसके चलते पर्यटन विभाग को काफी मुनाफ़ा होता है। इस बार मेले के आयोजन पर बिमारी की गाज गिर गई है।

सूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती धूप में लगने वाला है मेला

आपको बता दें कि हर बार जहां मेले का खेमा फरवरी माह में ही गाढ़ दिया जाता था पर इस बार किसी भी तरीके की चहल पहल नहीं देखि जा सकती। 1 से 15 फरवरी तक आयोजित होने वाले मेले पर बिमारी ने धारदार वार किया है।

सूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती धूप में लगने वाला है मेला

आपको बता दें कि इस बार मेले के आयोजन की संभावना अप्रैल में होने की संभावना जताई जा रही है। सूरजकुंड मेला 15 लाख अभिभावकों की सूची में सर्वप्रथम रहता है। ज्यादा तादाद में पर्यटकों के आने से यह संभावना बनी रहती है कि मेले से पर्यटन विभाग को आर्थिक रूप से मुनाफ़ा होगा।

सूरजकुंड में पसीना पसीना होने को तैयार हैं क्षेत्रवासी, अप्रैल-मई की चिलचिलाती धूप में लगने वाला है मेला

इस बार महामारी के चलते सूरजकुंड मेले के आयोजन को लंबित कर दिया है ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि इससे आर्थिक रूप से बहुत बड़ा घाटा हो सकता है। बिमारी के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सरकार ने किसी भी सार्वजनिक रूप से होने वाले कार्यक्रम पर विराम लगा दिया है।

ऐसे में सूरजकुंड मेले के आयोजन पर भी फिलहाल विराम लगा दिया गया है। बताया जा रहा है कि इस बार मेले के अप्रैल माह में होने की तैयारी की जा रही है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...