HomeGovernmentआंदोलन से आ गई फोगाट बहनों में तकरार, सोशल मीडिया पर आपस...

आंदोलन से आ गई फोगाट बहनों में तकरार, सोशल मीडिया पर आपस में भीड़ बैठी बबिता और विनेश

Published on

भारत में किसान आंदोलन के चलते त्राहिमाम मचा हुआ है। पूरे मामले को लेकर सियासत गरमाई हुई है, पक्ष विपक्ष, आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। राजनैतिक दल एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोले बैठ गए हैं। पर किसान आंदोलन की आग यहीं तक सीमित नहीं रही, बॉलीवुड गलियारे से लेकर खेल जगत तक हर कोई इस आंदोलन को लेकर अपनी अपनी प्रतिक्रियाएं सामने रख रहा है।

कुछ दिन पहले बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने जब प्रदर्शनकारी किसानों पर निशाना साधते हुए उन्हें ढोंगी बताया था। इसके बाद अभिनेता दिलजीत दोसांझ ने कंगना पर वार करते हुए लम्बे लम्बे ट्वीट लिखे थे। कंगना दिलजीत की लड़ाई के बाद अब खिलाड़ियों के महकमे में आंदोलन के चलते खलबली मच गई है।

आंदोलन से आ गई फोगाट बहनों में तकरार, सोशल मीडिया पर आपस में भीड़ बैठी बबिता और विनेश

आपको बता दें कि पहलवान बहने बबिता और विनेश फोगट किसान आंदोलन के चलते एक दुसरे से भीड़ बैठी हैं। बबिता फोगाट भाजपा पार्टी नेता हैं जिसके चलते वह लगातार हो रहे किसान आंदोलन का विरोध कर रही हैं।

इसके चलते उन्होंने ट्वीट करते हुए विपक्षी पार्टी को भी आड़े हाथों ले लिया। बबिता ने ट्वीट करते हुए लिखा कि किसान बेवजह आंदोलन कर रहे हैं। मोदी सरकार कभी नहीं चाहेगी कि किसी भी तरीके से किसानों का बुरा हो। साथ ही साथ उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि कोंग्रेसी और वामपंथी किसानों को बहका रहे हैं ऐसे में जरूरी है कि किसान सोझ बूझ के साथ काम ले और वापस अपने घर लौट जाए।

इसके साथ ही बबिता ने एक और ट्वीट किया जिसमे उन्होंने हरियाणा पंजाब के पानी रोकने वाले विवाद पर भी बात की है। बबिता ने अपने ट्वीट में लिखा कि पंजाब के किसान जबरदस्ती समर्थन मांगने के लिए हरियाणा के किसानो का पानी नहीं रोक सकते।

ऐसे में मैं अपील करती हूँ कि किसान एक दूसरे का साथ दे और वापस हो जाए। बबिता के ट्वीट का जवाब उन्हें उनकी छोटी बहन विनेश फोगट से मिला है। विनेश ने ट्वीट करते हुए लिखा कि एक खिलाड़ी हमेशा खिलाड़ी ही रहता है चाहे वह कहीं भी चले जाए।

आंदोलन से आ गई फोगाट बहनों में तकरार, सोशल मीडिया पर आपस में भीड़ बैठी बबिता और विनेश

ऐसे में सभी खिलाड़ियों को खासकर के हरियाणा के खिलाड़ियों को यह समझना जरूरी है कि इस आंदोलन का क्या महत्व है। उन्होंने बिना नाम लिए अपनी बहन पर निशाना साधा और कहा कि राजनीति करना अच्छी बात है पर किसी की भावनाओं को आहत करने की जरूरत नहीं है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...