HomeIndiaइस मंदिर की मूर्तियाँ करती है ख़ुद से बात, वैज्ञानिक भी इस...

इस मंदिर की मूर्तियाँ करती है ख़ुद से बात, वैज्ञानिक भी इस अनसुलझी पहेली को नहीं सुलझा पाए

Published on

आज भी हमारे देश में कुछ चीज़ें ऐसी है जिसकी खोज वैज्ञानिकों के पास भी नहीं है। जी हां देश में बहुत से ऐसे मंदिर है जो रहस्यमय में छुपी हुई है।

आप सभी को पता है कि हर मंदिर में पत्थर की मूर्ति होती है लेकिन यदि कहा जाए की मूर्ति बोलती है तो शायद आपको इस बात पर भरोसा नहीं होगा। लेकिन आपको बता दें की देवी मां का एक ऐसा मंदिर है जहां मूर्ति तो पत्थर की है लेकिन उसमें से आवाजें आती है।

जी हां, आप इसे अंधविश्वास माने या देवी का चमत्कार कहें लेकिन यह बात बिलकुल सही है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस मंदिर में भगवान एक दूसरे से बात करते हैं। बिहार के बक्सर में स्थित देवी का एक ऐसा अद्भुत मंदिर है जहां प्रवेश करते ही भक्तों को देवी दुर्गा की शक्तियों का आभास होने लगता है। ऐसा लगता है की माता रानी आपके आसपास है। क्योंकि यहां की मूर्तियां बात करती है।

दरअसल कहा जाता है इस मंदिर में साधारण श्रृद्धालुओं के अलावा तंत्र साधना के साधक भी अपनी तमाम प्रकार की मनोकामनाएं पूरी करने के लिए आते हैं। बता दें एक साथ इस मंदिर में, महामाया, महाविद्या दक्षिणेश्वरी राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मां भगवती विराजमान हैं। इस मंदिर में खासकर नवरात्रि के दिनों हजारों की संख्या में भक्त आते हैं।

बताया जाता है कि तंत्र साधना के लिए बिहार का ये इकलौता मंदिर है जो इतना प्रसिद्ध है। चूकी ये तांत्रिक मंदिर है, इसलिए एक दिलचस्प बात ये भी है कि यहां कलश स्थापना का विधान नहीं है। तंत्र साधना से ही यहां माता की प्राण प्रतिष्ठा की गई है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...