Pehchan Faridabad
Know Your City

अभय चौटाला ने कसा भाजपा पर तंज बोले, हमेशा से BJP की नीति और नीयत में रहा है खोट

इंडियन नेशनल लोकदल के प्रधान महासचिव एवं विधायक अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष द्वारा एसवाईएल पर दिए गए बयान कि ‘जो एसवाईएल का नहीं, वो हरियाणा का नहीं हो सकता’ पर कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवन रेखा है और इस पर दिया गया बयान इनके दोहरे चरित्र को दर्शाता है। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा सरकार को एसवाईएल नहर बनाने से रोक कौन रहा है।

केंद्र में इन्ही की सरकार है, भाजपा नेताओं को ऐसे बेतुके बयान देने के बजाय तुरंत केंद्र की किसी एजेंसी को एसवाईएल नहर बनाने के लिए नियुक्त करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की नीति और नीयत में हमेशा खोट रहा है, इसका जीवंत उदाहरण एसवाईएल पर दिया गया बयान है।

एसवाईएल पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने के बावजूद यही भाजपा एसवाईएल के मुद्दे को ठंडे बस्ते में डालने के लिए जानबूझकर पुन: कोर्ट में चली गई थी। सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने के बाद जब हमने एसवाईएल बनाने की मांग उठाई थी तो ये लोग यह कह कर टालते रहे की मामला कोर्ट में है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष द्वारा की गई टिप्पणी कि ‘कृषि कानूनों पर हरियाणा के लोग पंजाब के लोगों के साथ मिलकर राजनीति कर रहे हैं’, को इनेलो नेता ने उनका मानसिक दिवालियापन बताया। आज सिर्फ पंजाब ही नहीं बल्कि पूरे देश का किसान केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा बनाए गए काले कृषि कानूनों को वापिस लेने की मांग को लेकर सडक़ों पर आंदोलनरत है जिसको हर वर्ग का समर्थन मिल रहा है। वहीं भाजपा के लोग इस आंदोलन को बदनाम करने के लिए औछी और बेतुकी बयानबाजी कर रहे हैं।

इनेलो नेता ने कहा कि प्रदेश की भाजपा गठबंधन सरकार ऊपर से नीचे तक भ्रष्टाचार में डुबी हुई है। इसका ताजा उदाहरण हाल ही में हरियाणा के पब्लिसिटी सेल के अध्यक्ष द्वारा प्रदेश सरकार की पब्लिसिटी पर खर्च किए गए 15 सौ करोड़ के भ्रष्टाचार के आरोप हैं।

उन्होंने कहा कि आज हालात यह हैं कि भाजपा सरकार से सभी वर्ग बेहद दुखी और परेशान है। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर भाजपा को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायकों में असंतोष लगातार बढ़ता जा रहा है जिस कारण भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का भविष्य अंधकार में दिखाई दे रहा है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More