HomeIndiaबरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती,...

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

Published on

आपने अलग अलग तरीके की दुकान देखी होगी और हो सकता है आपने वहाँ से समान भी खरीदा हो। पर अंबाला कैंट में बसे सदर बाजार में एक विचित्र दुकान सामने आई है। इस दुकान में राशन का सामान या कपड़े नहीं बल्कि बराती किराए पर मिलते हैं।

यदि बरात में सम्मिलित होने वाला कोई भी रिश्तेदार रूठ जाता है तो उस समस्या का निवारण आराम से मिल जाएगा। सदर बजार में स्थित श्री बिहारी लाल जी पान वालों की दुकान पर बराती किराये पर मिल जाते हैं। आप इस दुकान से सरबाला से लेकर दूल्हे के नजदीकी रिश्तेदार तक किराये पर ले जा सकते हैं।

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

शादी के सीजन में इस दुकान पर अच्छी खासी डिमांड आती है। आपको बता दें कि अंबाला कैंट में बनी इस दुकान में यह काम पिछले पचास सालों से चल रहा है। सबसे अलग काम करने की होड़ में अंबाला कैंट में बसे परिवार ने एक दुकान बना कर बराती और शादी कार्यक्रमों के लिए रिश्तेदारों को किराये पर देने का काम शुरू किया।

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

शुरुआत में इस व्यवसाय की शुरुआत करते समय हर किसी के ज़हन में इस दुकान को खोलते हुए अलग अलग ख़याल आए। आम लोगों ने भी इस दुकान का हैरानी से स्वागत किया, दुकान के सबसे अलग होने के कारण इसकी खबर आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गई।

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

अपने अलग अंदाज के चलते इस दुकान को राष्ट्रिय मीडिया द्वारा भी सुर्ख़ियों में लाया गया। बरात में सम्मिलित होने के लिए किस रिश्ते के लोग चाहिए उस हिसाब से ही रेट तय किया जाता है। किराये में ख़ास कर के पुरुष बराती दिए जाते हैं।

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

इसमें चाचा, ताया, भाई, सरबाला आदि रिश्ते के बाराती किराये पर दिए जाते हैं। सबसे ख़ास बात यह है कि जो भी बराती आगे भेजा जाता है, वह उसी रिश्ते के अनुसार अभिनय करता है और शादी में अपना फर्ज़ निभाता है।

बरात में ले जाने के लिए भाड़े पर खरीद सकते हैं बराती, किराये पर मिलते हैं चाचा, ताया और फूफा

दुकान के संचालक सन्नी साहनी ने बताया कि जिस भी बराती को शादी में ले जाना होता है, उसके कागजात को अपने पास रखा जाता है। साथ ही साथ इस बात का पूर्ण रूप से ध्यान रखा जाता है कि जिस भी बराती को शादी में भेजा जा रहा है वह व्यक्ति एकदम ठीक हो।

जो भी लोग बराती बनकर जाते वह जानकार ही होते हैं। अनजान लोगों को रिश्तेदार बनाकर भेजने से परहेज किया जाता है। आपको बता दें कि ज्यादातर बरातियों को एक दिन के लिए ही किराये पर भेजा जाता है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...