HomeFaridabadनए साल में जाम छलकाने के लिए तैयार है फरीदाबाद, सिर्फ इतने...

नए साल में जाम छलकाने के लिए तैयार है फरीदाबाद, सिर्फ इतने लोगों के साथ ही मिलेगी पार्टी करने की इजाज़त

Published on

महामारी के दौर मे हर कोई एक दुसरे से दूर हो चुका है, इसका कारण है लगातार बढ़ता संक्रमण और सामाजिक दूरी का पालन। देश भर में जिस तरीके से बिमारी का संक्रमण फैला है उसकी रोकथाम के लिए सरकार ने कमर कसी हुई है।

बात की जाए फरीदाबाद की तो हमारे क्षेत्र में बिमारी का संक्रमण काफी तेजी से फैला है ऐसे में जिला प्रशासन के ऊपर जोर बना हुआ है कि आखिर कैसे महामारी पर नियंत्रण पाया जा सके। 2020 में आई वैश्विक महामारी ने पूरे भारत में हड़कंप मचाया हुआ है।

नए साल में जाम छलकाने के लिए तैयार है फरीदाबाद, सिर्फ इतने लोगों के साथ ही मिलेगी पार्टी करने की इजाज़त

पर 2021 के साथ लोगों की उम्मीदें बंधी हुई हैं कि आगामी वर्ष पूरे विश्व के लिए खुशियों की सौगात लेकर आएगा। अब बात की जाए नववर्ष में मनाए जाने वाले जश्न की तो उसको लेकर संशय बरकरार है। पूरे फरीदाबाद में नए साल पर लोग धूम मचाते थे और बड़ी बड़ी पार्टियों और दावतों का आयोजन किया जाता था।

नए साल में जाम छलकाने के लिए तैयार है फरीदाबाद, सिर्फ इतने लोगों के साथ ही मिलेगी पार्टी करने की इजाज़त

इस साल बिमारी के चलते लोगों के न्यू ईयर सेलिब्रेशन पर प्रश्न चिन्ह लग चुका है। ऐसे में हाल फिलहाल फरीदाबाद कार्य प्रणाली ने नए साल की तैयारियों को लेकर अपनी ओर से एक फरमान निकाला है। आपको बता दें कि हर बार जहां नए साल की दावत में महमानों का जमावड़ा लगा रहता है।

नए साल में जाम छलकाने के लिए तैयार है फरीदाबाद, सिर्फ इतने लोगों के साथ ही मिलेगी पार्टी करने की इजाज़त

पर इस बार सरकार द्वारा कम से कम लोगों को दावतों में सम्मिलित किए जाने की बात की जा रही है। इस बार रेस्टोरेंट और बड़े बड़े कैफे में होने वाली दावतों में केवल 100 से 200 लोगों को ही सम्मिलित होने की इजाज़त दी जाएगी।

वहीं अगर कोई खुले मैदान में नववर्ष मनाना चाहता है तो इसके लिए इजाज़त लेनी पड़ेगी। मैदान में 500 लोग एक साथ इकट्ठे हो सकते हैं और नए साल का जश्न मना सकते हैं। इस साल महामारी के चलते हर किसी ने एकदूसरे से दूरी बना ली थी।

सामाजिक दूरी का पालन करने के लिए हर कोई एक दुसरे से कट गया था। बिमारी के संक्रमण का असर इस बार त्योहारों पर भी दिखा। इस बार त्योहारों के रंग फीके रहे और जनता ने भी संक्रमण से बचने के लिए खुद पर अंकुश लगाकर रखा है। ऐसे में अब नए साल के उत्सव पर बिमारी की गाज को संभालते हुए जिला प्रशासन द्वारा पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...