Online se Dil tak

टूर ऑफ ड्यूटी :- आम नागरिकों के लिए खुलने वाले हैं सेना से दरवाज़े

भारतीय सेना तीन साल के लिए आम भारतीयों को सेना में शामिल करने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। इसे ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ या तीन साल की छोटी सेवा (सर्विस) का नाम दिया गया है।

प्रस्ताव के अनुसार, यह अनिवार्य सैन्य सेवा की तरह नहीं होगा, लेकिन कुछ रिक्तियां निकाली जाएंगी, जिसमें इच्छुक युवा देश की सेवा में अपना स्वैच्छिक योगदान दे सकेंगे।

टूर ऑफ ड्यूटी :- आम नागरिकों के लिए खुलने वाले हैं सेना से दरवाज़े

ध्यान रखें कि चयन प्रक्रिया में कोई ढील नहीं दी जाएगी। मतलब, अगर आप तीन साल के लिए भी अपने देश की सेना का हिस्सा बनना चाहते हैं, तो आपको उसी प्रक्रिया से गुजरना होगा कि युवा अपना पूरा कार्यकाल सेना में बिताते हैं। यह स्पष्ट है कि सेना गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं करेगी।

अधिकारी और जवान दोनों स्तरों पर एक मौका अधिकारी कर्नल अमन आनंद ने कहा कि प्रस्ताव पर सेना में उच्च स्तर पर चर्चा चल रही है।

टूर ऑफ ड्यूटी :- आम नागरिकों के लिए खुलने वाले हैं सेना से दरवाज़े

प्रस्ताव के अनुसार, इसे अधिकारी और जवान दोनों स्तरों पर परीक्षण के आधार पर लागू किया जा सकता है। प्रारंभ में, इसे कुछ रिक्ति को हटाने के लिए माना जा सकता है और फिर यदि यह सफल होता है, तो इसका विस्तार करने के लिए विचार किया जा सकता है।

टूर ऑफ ड्यूटी से लागत भी कम होगी

प्रस्ताव में कहा गया है कि तीन साल के लिए सेना में शामिल होना लागत प्रभावी होगा। इससे खर्च कम होगा और सेना अपने आधुनिकीकरण के लिए शेष बजट का उपयोग करने में सक्षम होगी।

टूर ऑफ ड्यूटी :- आम नागरिकों के लिए खुलने वाले हैं सेना से दरवाज़े

इसमें कहा गया है कि अगर कोई सेना अधिकारी 10 साल बाद सेना छोड़ता है, तो सेना उन पर 5.12 करोड़ रुपये खर्च करती है, जिसमें वेतन, भत्ता, ग्रेच्युटी और अन्य खर्च शामिल हैं। इसी तरह, एक अधिकारी 14 साल तक सेना में रहने पर 6.83 करोड़ रुपये खर्च करता है।

अगर ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ के प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है, तो अधिकारी तीन साल में 80 से 85 लाख रुपये खर्च करेगा। वर्तमान में, एक सैनिक 17 साल बाद सेवानिवृत्त होता है। अगर कोई सैनिक 3 साल के लिए है, तो उस पर 11.5 करोड़ रुपये बचाए जा सकते हैं।

Read More

Recent