HomeGovernmentइस रणनीति को अपनाकर केरला ने पाई कोरोना से मुक्ति

इस रणनीति को अपनाकर केरला ने पाई कोरोना से मुक्ति

Published on

कोरोना महामारी जहां पूरे भारत में तेजी से फैल रही है और प्रत्येक राज्य में हजारों की तादाद में मरीज अब तक पाए जा चुके हैं और सैकड़ों मामले रोजाना इस महामारी से संक्रमित मरीजों के बढ़ रहे हैं वहीं केरल भारत का इकलौता ऐसा राज्य बन चुका है जिसने इस महामारी पर को न केवल  समय पर पहचाना बल्कि इसकी गंभीरता को समझते हुए शुरुआत से ही विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इसके बचाव एवं सुरक्षा के लिए दिए गए उपायों को अपनाया और उन पर तत्काल प्रभाव से कार्य किया।

जिसके चलते अब केरला ने कोरोना पर पूरी तरह से नियंत्रण पा लिया है और अभी तक केरल में केवल 560 संक्रमित मरीजों के मामले ही सामने आए है और 4 मृत्यु अभी तक इस राज्य में कोरोना के चलते हुए है।

केरल राज्य द्वारा कोरोना महामारी की गंभीरता को भली-भांति समझने का श्रेय केरला की स्वास्थ्य मंत्री केके सेलज को दिया जा रहा है जिसके चलते उन्हें इस महामारी पर काबू पाने के लिए कहीं नए एवं अनोखे नाम भी दिए जा रहे हैं। कुछ लोगों उन्हें कोरोना नाशक बता रहे हैं तो कुछ लोग रॉकस्टार एवं स्लाएयर यानी कोरोना वध करने वाला बता रहे हैं।

जबकि इस बारे में केरला की स्वास्थ्य मंत्री केके सेलजा का कहना है कि जब कोरोना चाइना में फैलना शुरू हुआ तो उन्हें इस बात की खबर लगी और उन्होंने अपने चिकित्सा अधिकारी से फोन पर बात करते हुए पूछा कि क्या यह महामारी भारत में आ सकती है। तो चिकित्सा अधिकारी ने जवाब दिया कि जरूर आ सकती है और उसके कुछ दिनों बाद ही वुहान से लौटा एक युवक केरला में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। जिसके बाद से ही केरला स्वास्थ्य विभाग लॉक डाउन की घोषणा होने से पहले ही तत्परता दिखाते हुए केरला आने वाले सभी यात्रियों की जांच शुरू कर दी और चीन सहित अन्य देशों से भी भारत में आने वाले सभी यात्रियों को होम क्वॉरेंटाइन में रखना शुरू कर दिया। जिस कारण यह महामारी नियंत्रण में आ पाई और अब केरला में लगभग ना के बराबर कोरोना संक्रमित व्यक्ति है।

केके शैलजा का कहना है कि केरला राज्य में कोरोना महामारी पर नियंत्रण किसी चमत्कार या भौगोलिक स्थिति के प्रभाव के कारण नहीं हुआ है बल्कि केरला सरकार द्वारा शुरुआत में ही एक उचित योजना तैयार की गई जिस पर उन्होंने सही ढंग से कार्य किया वह इस महामारी पर नियंत्रण पाया।


Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...