HomePoliticsबेशक आंदोलन में नहीं हुआ कुछ ठीक, पर नगर निगम चुनाव में...

बेशक आंदोलन में नहीं हुआ कुछ ठीक, पर नगर निगम चुनाव में हरियाणा गठबंधन के चारों खाने चित

Published on

जहां एक महीने से ज्यादा समय बीतने के बाद भी किसान आंदोलन का परिणाम भले ही सुने देखने को मिल रहा था लेकिन वास्तव में अब इसने अपना रंग नगर निगम चुनाव में दिखा दिया है। नगर निगम में हरियाणा सरकार की गठबंधन सरकार यानी कि भाजपा और जजपा पार्टी के गठबंधन को जोर का झटका धीरे से लगा है।

इसका अर्थ यह है कि जिसकी गठबंधन ने कल्पना भी नहीं करी थी आज परिणाम में वही सब देखने को मिला है। दरअसल नगर निगम चुनाव में जहां महापौर की 3 सीटों के लिए चुनाव हुए थे उन तीनों सीटों में से गठबंधन केवल एक ही सीट पर काबिज हो पाई है। गौरतलब, अंबाला, पंचकुला और सोनीपत शहरों में महापौर पद के लिए रविवार को चुनाव हुए थे।

बेशक आंदोलन में नहीं हुआ कुछ ठीक, पर नगर निगम चुनाव में हरियाणा गठबंधन के चारों खाने चित

बीजेपी को पंचकुला में जीतने के लिए संघर्ष करना पड़ा वहीं कांग्रेस और हरियाणा जन चेतना पार्टी ने क्रमशः सोनीपत और अंबाला में अपना परचम लहरा दिया। बताते चलें कि यह पहला मौका था कि तीन शहरों में महापौर पदों के लिए प्रत्यक्ष चुनाव हुए थे।

उधर कुछ लोगों का संशय है कि स्थानीय चुनाव में भी किसान आंदोलन का असर देखने को मिला है। इसी के चलते सत्ताधारी गठबंधन को महज एक नगर निगम ही मिला है। वहीं दूसरी ओर कुछ जानकार इसे स्थानीय मुद्दों और प्रत्याशियों के लिए नाराजगी के तौर पर भी देख रहे हैं।

बेशक आंदोलन में नहीं हुआ कुछ ठीक, पर नगर निगम चुनाव में हरियाणा गठबंधन के चारों खाने चित

कहीं ना कहीं यह परिणाम आना लाजमी भी था क्योंकि किसानों का रोष उबाल भर रहा था जिसका परिणाम कुछ इस तरह सामने आना ही था।

देखिए कहां से किसने भरी जीत की हुंकार

अंबाला में महापौर पद के लिए हुए चुनाव में पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा की पत्नी और हरियाणा जन चेतना पार्टी (एचजेसीपी) की उम्मीदवार शक्ति रानी शर्मा विजयी रहीं. उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार वंदना शर्मा को 8,084 मतों से हराया. अधिकारियों ने बताया कि कांग्रेस उम्मीदवार चौथे स्थान पर रहे।

बीजेपी के कुलभूषण गोयल पंचकूला में नए महापौर होंगे. उन्होंने कांग्रेस की उपिंदर कौर अहलूवालिया को 2,057 वोटों से हराया. पंचकूला में 1,333 मतदाताओं ने नोटा विकल्प का प्रयोग किया. सोनीपत में कांग्रेस ने महापौर का चुनाव जीता. पार्टी के निखिल मदान ने बीजेपी के ललित बत्रा को 13,818 मतों से पराजित किया।

बेशक आंदोलन में नहीं हुआ कुछ ठीक, पर नगर निगम चुनाव में हरियाणा गठबंधन के चारों खाने चित

सोनीपत में बीजेपी ने 10 वार्ड में जीत हासिल की जबकि कांग्रेस को नौ सीटें मिलीं, वहीं एक सीट पर निर्दलीय विजयी हुआ. पंचकुला में बीजेपी और कांग्रेस ने क्रमशः नौ और सात सीटें जीतीं वहीं जेजेपी को दो सीटें मिलीं।

रेवाड़ी नगरपालिका अध्यक्ष के लिए चुनाव में बीजेपी की पूनम यादव विजयी रहीं. उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार उपमा यादव को 2,087 मतों से हराया।कांग्रेस तीसरे स्थान पर रही. बीजेपी-जेजेपी गठबंधन धारुहेड़ा,

सांपला और उकलाना में नगरपालिका समितियों का अध्यक्ष पद हासिल करने में विफल रहा।. वहां निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत हासिल हुयी। धारुहेड़ा से कंवर सिंह, सांपला से पूजा और उकलाना में सुशील साहू वाला विजयी हुए।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...