HomePublic Issueमनमाने दाम मांग रहे है ऑटो चालक ना देने पर कहते है...

मनमाने दाम मांग रहे है ऑटो चालक ना देने पर कहते है पैदल चले जाओ ना

Published on

फरीदाबाद वासियों को भारी बारिश के कारण अनेकों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। फरीदाबाद के कुछ इलाकों और सड़कों की हालत पहले से ही बहुत ख़राब है।और अब इस भारी बारिश के चलते रोज़मर्रा के कामों में लोगों को करना पड़ रहा है

काफ़ी मुश्किलों का सामना और ऐसे में कहीं जाना और अपना काम करना एक चुनौति बन गया है।महामारी की वजह से पहले ही लोग काफ़ी परेशान है।

मनमाने दाम मांग रहे है ऑटो चालक ना देने पर कहते है पैदल चले जाओ ना

ऑटो ड्राईवर भी जनता को परेशान करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैैं वो अपनी सहूलियत के हिसाब से कहीं भी आने जाने का भाव बता रहे है उदाहरण के तौर पर बल्लभगढ़ से सेक्टर 9 आने के 20 रुपए लगते है लेकिन अब वो अपनी मर्ज़ी से लोगो को भाव बता रहे हैैं,

आमजन की मजबूरी का फायदा उठा रहे है। सवाल पूछने पर उनके बहाने भी तैयार रहते है ऐसे में आम आदमी अपने काम को देखे या ऑटो ड्राइवर्स की मनमानी सहे। अगर समय पर दफ़्तर ना पहुंचे तो उनकी नौकरियां जाने का डर।अगर ऑटो ड्राइवर से बात करे तो उनका इस पर ये कहना है की बारिश के समय में पानी भरा होता है।

मनमाने दाम मांग रहे है ऑटो चालक ना देने पर कहते है पैदल चले जाओ ना

जिसके कारण ऑटो घूमा कर ले जाना पड़ता हैं।अगर आपको समय से ही पहुंचना है तो उसके लिए आपको सेपरेट ऑटो करना पड़ेगा । जिसके कारण लोगो को मजबूरी में सेपरेट ऑटो करना पड़ता है समय से पहुंचने के लिए। ये तो साफ साफ मनमानी हैं।

बल्लभगढ़


बल्लभगढ़ फरीदाबाद के सबसे पोश इलाकों में से एक है बारिश के समय में यहां जलभराव ज़्यादा रहता है। यहां से मेट्रो स्टेशन भी पास है। ऐसे में अलग अलग जगहों से लोगों का आना जाना लगा रहता है ऐसे में ऑटो चालकों को अपनी मनमानी करने का अच्छा मौका मिल जाता है।

ऑटो वाले अपनी चालाकी का पता तो तब देते है जब ऑटो में बैठते समय सवारियों को किराया नहीं बताते लेकिन गंतव्य पर पहुंचने के बाद किराए का खुलासा करते हैं।

मनमाने दाम मांग रहे है ऑटो चालक ना देने पर कहते है पैदल चले जाओ ना

एनआइटी

एनआइटी भी फरीदाबाद के जानेमाने इलाकों में से एक है।यहां भी बरसात के समय जलभराव हो जाता है एनआइटी कुछ जगह ऐसी भी है जहां लोगों का आना जाना बहुत लगा रहता है जैसे कि डबुआ कॉलोनी, जहवार काॅलोनी,हार्डवेयर चौक ये वो इलाके है जहां ज़रा सी बारिश से ही जलभराव हो जाता है और लोगों को काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

ऐसे में ऑटों वाले उनकी इस मजबूरी का फायदा उठाते है कभी ज़ायदा पैसे मांग कर तो कभी अपने ऑटों में लिमिट से ज़ायदा लोगों को बैठा कर।ऐसे में लोगों को अपने हित के लिए आवाज उठानी चाहिए, सही दाम देना चाहिए।और ऑटों चालाकों की मनमानी को कदापि बड़ावा नहीं देना चाहिए।

Written By: Radhika Chaudhary

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...