HomeFaridabad100 की बजाए 200 बैड का बनेगा एमसीएच यूनिट, पीडब्ल्यूडी को दिए...

100 की बजाए 200 बैड का बनेगा एमसीएच यूनिट, पीडब्ल्यूडी को दिए जा चुके है पैसे

Published on


जिले के एकमात्र सरकारी बीके अस्पताल में जल्द ही एक मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट को बनाया जा रहा है। जिसको लेकर स्वास्थ्य निदेशालय की ओर से पीडब्ल्यूडी को फंड दे दिया गया है। नक्शे पास होने के बाद कार्य को शुरू कर दिया जाएगा।

सीएमओ डाॅक्टर डा. रणदीप सिंह पूनिया ने बताया कि बीके अस्पताल में उनके कार्यालय के सामने पुरानी बिल्डिंग बनी हुई है। उक्त बिल्डिंग को काफी समय पहले पीडब्ल्यूडी के द्वारा कंडम घोषित कर दिया गया था।

100 की बजाए 200 बैड का बनेगा एमसीएच यूनिट, पीडब्ल्यूडी को दिए जा चुके है पैसे

उन्होंने बताया कि बीके अस्पताल में जल्द ही एक मदर एंड चाइल्ड हेल्थ यूनिट को बनाया जा रहा है। उक्त पुरानी बिल्डिंग को तोड़ कर उसी जगह पर एमसीएच बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि निर्माण के लिए स्वास्थ्य निदेशालय ने पीडब्ल्यूडी को एमसीएच बनाने के लिए पांच करोड़ रुपये दे दिए है। उन्होंने बताया कि नक्शे को लेकर शिशु एवं स्त्री रोग विशेषज्ञों की पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों के साथ के मीटिंग भी हो चुकी है।

100 की बजाए 200 बैड का बनेगा एमसीएच यूनिट, पीडब्ल्यूडी को दिए जा चुके है पैसे

क्या है एमसीएच


साल 2011 में एमसीएच यूनिट बनाने की योजना को निदेशालय की ओर से मंजूरी मिल चुकी है। लेकिन किसी न किसी वजह से यह योजना साल दर साल लटकटी रही। जिसके बाद सीएमओ डा. रणदीप सिंह पूनिया ने जब बीके अस्प्ताल का कार्याभार संभाला तो उन्होंने उन योजनाओं पर पहले काम करना शुरू कर दिया जिनको निदेशालय की ओर से मंजूरी तो मिल गई लेकिन शुरू नहीं किया जा चुका। जिसमें एमसीएच यूनिट भी शामिल है।

100 की बजाए 200 बैड का बनेगा एमसीएच यूनिट, पीडब्ल्यूडी को दिए जा चुके है पैसे

उन्होंने बताया कि पहले एमसीएच 100 बैड का बनाया जा रहा था । लंकिन जिले की जनसंख्या 25 लाख होेने की वजह से सीएमओ ने इस प्रस्ताव को बढाकर 200 बैड का बनाने की मंजूरी के लिए निदेशालय को भेजा। जिसके बाद उनको 200 बैड का एमसीएच बनाने की मंजूरी मिल गई है। उन्होंने बताया कि पीडब्ल्यूडी की ओर से नए भवन का नक्श तैयार कर चुके है। क्योंकि भवन मां एवं उसके बच्चे से संबंधित है तो उसके लिए महिला एवं शिशु रोग विशेषज्ञ के साथ मीटिंग करके कुछ अहम बदलाव करने के बारे में बात की ।एमसीएच बनाने को लेकर जो भी औपचारिकताएं थी पूरी की जा चुकी है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...