Online se Dil tak

भारत में विश्वविधायलयों के छात्रों को राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच, पर्यावरण संरक्षण के लिए कर रहा है जागरूक

राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच 2021 ’में पूरे भारत के विश्वविद्यालयों के हजारों छात्र भाग ले रहे हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन 12 से 26 जनवरी, 2021 तक पर्यावरण संरक्षण गतिविधि द्वारा वर्चुअल मोड में किया जा रहा है।

पर्यावरणीय स्थिरता पर निर्णय लेने की प्रक्रियाओं के सभी प्रासंगिक स्तरों में युवाओं को सक्रिय रूप से भाग लेना अनिवार्य है क्योंकि यह आज उनके जीवन को प्रभावित करता है और उनके भविष्य के लिए निहितार्थ हैं और एक अद्वितीय दृष्टिकोण भी लाते हैं।

भारत में विश्वविधायलयों के छात्रों को राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच, पर्यावरण संरक्षण के लिए कर रहा है जागरूक
भारत में विश्वविधायलयों के छात्रों को राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच, पर्यावरण संरक्षण के लिए कर रहा है जागरूक

इस पृष्ठभूमि के साथ, ‘पर्यावरण चेतना’ के विषय पर आयोजित राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच विश्वविद्यालय स्तर, क्षेत्रीय स्तर और अखिल भारतीय स्तर पर समूह चर्चाओं की एक श्रृंखला आयोजित कर रहा है।

विश्वविद्यालय स्तर की प्रतियोगिताओं को राष्ट्रीय युवा दिवस (स्वामी विवेकानंद की जयंती) के अवसर पर 12 जनवरी से 20 जनवरी तक आठ क्षेत्रों में संबंधित विश्वविद्यालयों में आयोजित किया जा रहा है।

भारत में विश्वविधायलयों के छात्रों को राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच, पर्यावरण संरक्षण के लिए कर रहा है जागरूक
भारत में विश्वविधायलयों के छात्रों को राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच, पर्यावरण संरक्षण के लिए कर रहा है जागरूक

प्रत्येक विश्वविद्यालय के दो छात्रों को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर 23 जनवरी को आयोजित होने वाले क्षेत्रीय फाइनल में भाग लेने के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। प्रत्येक क्षेत्र के तीन छात्र 26 जनवरी को आयोजित होने वाले ग्रैंड फिनाले में पर्यावरण पर अपने विचारों का मुकाबला करेंगे और साझा करेंगे।

एक नेशनल यूथ आइकॉन, जो विजन और पर्यावरण के लिए काम करने के जुनून को प्रदर्शित करेगा उसको ग्रैंड फिनाले में चुना जाएगा। चयनित यूथ आइकन को एक आइवी लीग विश्वविद्यालय में प्रायोजित अल्पकालिक पर्यावरण पाठ्यक्रम के लिए नामांकित करने का भी प्रस्ताव रखा गया है |

इसके अलावा, तीन शीर्ष टीमों और सर्वश्रेष्ठ वक्ताओं को भी ग्रैंड फिनाले में घोषित किया जाएगा और स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक से सम्मानित किया जाएगा। सभी प्रतियोगिताओं का उल्लेख प्रसिद्ध पर्यावरणविदों और शिक्षाविदों द्वारा किया जाएगा।

Read More

Recent