HomePoliticsकैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए...

कैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए ऐसा ही करते रहेंगे

Published on

हरियाणा राज्य के अंतर्गत आने वाले करनाल जिले के कैमरा गांव में रविवार को आयोजित हुई महापंचायत में उत्पात मचाने वाले तथा तोड़फोड़ के तहत पुलिस द्वारा भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी सहित 71 लोगों को नामजद करते हुए

शेष अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। इसके अलावा इस पूरी वारदात के पीछे की वजह का जिम्मेदार भी हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने गुरनाम सिंह को ही बताया है।

कैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए ऐसा ही करते रहेंगे

वहीं दूसरी तरफ स्वयं भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह द्वारा हरियाणा के कैमरा में हुई घटना की जिम्मेदारी अपने सर ले ली गई है। गुरनाम सिंह ने तो यह तक कह दिया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री को रैली करने की अनुमति नहीं दी।

बीजेपी ने कहा कि वे हमारे आंदोलन को तोड़ने के लिए 700 रैलियां करेंगे और हम ऐसी बीजेपी रैलियों का विरोध करेंगे।

कैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए ऐसा ही करते रहेंगे

वह इससे पहले भी मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा था कि कैमला के कार्यक्रम में जो देखने को मिला है उसमें किसी भी तरह किसान का स्वभाव नहीं है। खट्टर ने आगे कहा कि इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने वाले लोगों को भी किसी प्रकार का समर्थन मिलने वाला नहीं है।

वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है जिसमें साफ-साफ देखा जा सकता है कि किस तरह किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने उकसाने का काम किया है। सीएम मनोहर लाल ने कहा कि इस तरह का वक्तव्य देना कि यह सभा नहीं होने देंगे, इससे माहौल खराब होता है।

कैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए ऐसा ही करते रहेंगे

मेरे विषय में यह कहा जाना कि मरोड़ निकाल देंगे, इन सब घटनाओं से चढ़ूनी की मानसिकता का परिचय मिल गया है।

पूरे प्रकरण पर विस्तार से जानकारी देते हुए संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य एवं भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष रतन मान ने कहा कि 13 जनवरी को लोहड़ी के अवसर पर तीनों काले कानूनों की प्रतियां जलाई जाएंगी।

कैमरा गांव की घटना पर बोले गुरनाम सिंह,भाजपा को रोकने के लिए ऐसा ही करते रहेंगे

इसके अलावा 18 जनवरी को जिला व तहसील स्तर पर महिला किसान दिवस के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। दिल्ली के सभी बॉर्डर पर आयोजित मंचों पर महिलाओं की अगुवाई में कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। यह निर्णय सिंघु बॉर्डर पर आयोजित किसान संगठनों की बैठक में लिया गया है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...