Pehchan Faridabad
Know Your City

दुखद : मुठभेड़ के दौरान आतंकवादियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए दमदमा निवासी राजसिंह खटाना

एक तरफ संपूर्ण देश कोरोना वायरस की मार झेल रहा है वही रविवार को देर रात सामने आई घटना ने देशवासियों को झकझोर दिया है। पूरे देश में वैश्विक स्तर पर कोरोनावायरस अपने संक्रमण से देशवासियों को आबोहवा में ले रहा है, वहीं दूसरी तरफ आतंकवादियों का समूह अपनी बचकानी हरकतों से बाज नहीं आ रहा।

रविवार को देर रात हुई एक मुठभेड़ में सेना के लांस नायक राज सिंह खटाना शहीद हो गए। देश की सुरक्षा बलों ने दो आतंकवादियों को मार गिराया इसमें एक हिज्बुल मुजाहिन का कुख्यात आतंकी ताहिर अहमद भी शामिल था।

गौरतलब, जम्मू-कश्मीर के डोडा में रविवार को सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एक जबरदस्त मुठभेड़ हुई। क्योंकि डोडा में सुरक्षा बलों को आतंकवादियों के होने की आशंका मिली थी। जिस पर सुरक्षाबलों ने तुरंत गांव की घेराबंदी कर आतंक आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करने को कहा लेकिन जवाब में आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग की।

जिस पर पलट जवाब देते हुए सुरक्षाबलों द्वारा भी गोलीबारी की गई। फायरिंग केस के बीच में लांस राजसिंह खटाना गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

उन्हें तत्काल साथी सैनिकों द्वारा अस्पताल ले जाया गया। जहां उपचार के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली। आज से 9 वर्ष पूर्व राजसिंह खटनानसेना में भर्ती हुए थे। राज सिंह खटाना के शहादत का समाचार मिलते ही दमदमा में शोक की लहर दौड़ गई, क्योंकि राज सिंह खटाना गुरुग्राम के दमदमा के निवासी थे। आपको बताते चलें राज सिंह खटाना के दो बच्चे भी हैं जिनमें एक बेटा और एक बेटी है।

राज सिंह खटाना की इस शहादत पर सांसद कृष्ण पाल गुर्जर, दीपेंद्र हुड्डा, बढ़खल के कांग्रेसी प्रत्याशी विजय प्रताप सिंह, पृथला के विधायक नैनपाल रावत से लेकर कैबिनेट मंत्री व बल्लभगढ़ विधायक मूलचंद शर्मा ने दुख प्रकट किया।

नेताओं ने कहा कि शहीद राजसिंह खटाना की शहादत देश हमेशा याद रखेगा। इस घटना से देश को बड़ी क्षति हुई है, जिससे उभरने में देशवासियों को समय लगेगा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More