HomeEducationएमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों...

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

Published on

मानव रचना विश्वविद्यालय (MRU), मानव रचना डेंटल कॉलेज (MRDC) और मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्डीज(MRIIRS) में आज दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया जिसमें 2000 छात्रों को उज्जवल भविष्य की कामनाओं के साथ डिग्रियां दी गयी।

88 छात्रों को शिक्षाविदों, अनुसंधान, खेल, रचनात्मक कला, सामुदायिक भागीदारी और पेशेवर विकास में उनकी असाधारण उपलब्धियों की मान्यता में पदक और प्रमाण पत्र के साथ सम्मानित किया गया।

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पद्म विभूषण डॉ. कृष्णास्वामी कस्तूरीरंजन, पूर्व अध्यक्ष ISRO शामिल हुए। हॉनोरिस कॉसा ड्रिगी की उपाधि से सम्मानित पद्मश्री डॉ. श्रीकुमार बनर्जी, चांसलर, होमी भाभा राष्ट्रीय संस्थान, दीपक बागला, एमडी और इन्वेस्ट इंडिया के सीईओ, कृष्णमूर्ति शंकर, ईवीपी, इन्फोसिस,

प्रो (डॉ.) हरि प्रकाश, पूर्व प्रमुख, चिकित्सकीय शिक्षा के लिए केंद्र और अनुसंधान, एम्स, एच के बत्रा, चेयरमैन, परफेक्ट ब्रेड, प्रो (डॉ.) असीमदास, डीन, ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज फरीदाबाद इस अवसर पर सम्मानित अतिथि के तौर पर भी शामिल हुए।

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

दीक्षांत समारोह के अवसर पर स्नातकों को बधाई देते हुए पद्म विभूषण डॉ. कृष्णास्वामी कस्तूरीरंजन ने कहा, “मानव रचना में पढ़ाये जाने वाले विविध पाठ्यक्रम छात्रों के लिए एक समृद्ध पृष्ठभूमि बनाते हैं जिसके कुछ पहलू NEP 2020 का भी हिस्सा हैं।

NEP एक न्यायसंगत समाज बनाने के लिए सभी की जरूरतों और आकांक्षाओं पर विचार करती है।” उन्होंने भारतीय कला और संस्कृति को व्यक्तिगत और राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर बढ़ावा देने पर जोर दिया, और सभी को दूसरों की सेवा में योगदान देने के लिए प्रेरित किया।

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

श्री अरुणाभ बोरहा, एमबीए, फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज को उनके मजबूत चरित्र, क्षमता, मूल्यों, जागरूकता और ज्ञान की मान्यता में डॉ. प्रीतम सिंह गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया।

कोरोना की गाइडलाइंस को पूरी तरह से ध्यान में रखते हुए इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया । इस मौके पर अरुणाभ बोरहा, एमबीए, फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज और डॉ. प्रीतम सिंह को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया।

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

खेलों में उत्कृष्ट एचीवर का पुरस्कार श्री अंगद बाजवा को प्रदान किया गया जिसने 2019 एशियाई शूटिंग चैम्पियनशिप में पुरुषों की स्कीट स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था और अपने लिए 2020 के समर ओलंपिक (2021 में होने वाले) में स्थान सुदृण किया।

इसके अलावा सोनाक्षी खोसला, बी.टेक, (एमआरआईआईआरएस)और चववि बालियान, बी.एससी। (एच), गणित, (एमआरयू), अभिषेक सोनतके, बी.टेक, (एमआरयू )और हार्दिक ग्रोवर, बी.टेक, (एमआरआईआईआरएस)को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उनकी उपलब्धियों के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया।

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

वहीं मानव रचना शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष डॉ. प्रशांत भल्ला ने इस अवसर पर बोलते हुए छात्रों से धैर्य और लगन के गुणों को बनाए रखने के लिए ईमानदार रहने का आग्रह किया। “समाज के युवा, शिक्षित, होशियार और जानकार अंश के रूप में,

आपको याद रखना चाहिए कि आज नहीं तो कल सफलता आपकी ही होगी। इसलिए सवाल सफलता प्राप्त करने के बारे में नहीं बल्कि मूल्यों के बारे में है, क्योंकि केवल तभी आपको संतुष्टि मिलेगी जब आप अपने जीवन को देखेंगे। ”

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

वहीं दीक्षांत समारोह में मानव रचना शिक्षण संस्थान के पूर्व छात्रों ने इस समारोह को यादगार बना दिया क्योंकि इस मौके पर उन्होंने अपना नेतृत्व मौजूदा छात्रों के हाथों में देते हुए कहा कि अनुशासन और पढ़ाई ही छात्र का एक लक्ष्य है और अनुशासन और पढ़ाई से ही अपने लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है

एमआरआईआईआरएस, एमआरयू और एमआरडीसी में डॉक्टरेट, ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट की 2000 छात्रों को दी गई डिग्रियां

और जिस अनुशासन से पूर्व के छात्रों ने यहां पर शिक्षा प्राप्त की है इसी उम्मीदों के साथ जो नए छात्र आ रहे हैं उनको आगे बढ़ना चाहिए और जो भी निश्चय दृढ़ संकल्प लेकर इस संस्थान में उन्होंने नामांकन करवाया है

और जो उनका लक्ष्य है वह हासिल करने की ओर पूरी जी जान से पढ़ाई करें। इस समारोह की खास बात यह भी कहा कि समारोह कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए ऑफ़लाइन और ऑनलाइन द्वारा आयोजित किया गया।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...