Pehchan Faridabad
Know Your City

कोवैक्सीन में हरियाणा रहा तीसरे पर, लेकिन फरीदाबाद रहा दूसरे नंबर पर

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दावा किया है कि कोवैक्सीन में हरियाणा राज्य दूसरे स्थान पर रहा है। वहीं अगर हम हरियाणा के जिलों की बात करें तो गुरूग्राम पहले स्थान पर व फरीदाबाद दूसरे स्थान पर रहा। उन्होंने बताया कि हरियाणा में पहले स्तर में करीब दो लाखा हेल्थ केयर वर्कर्स को कोवैक्सीन लगाई जानी है। उन्होंने बताया कि देश भर में लक्ष्यद्वीप कोवैक्सीन में पहले स्थान पर रहा वहीं उड़ीसा ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है।


स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि हरियाणा राज्य में अभी तक एक लाख 17 हजार से अधिक हेल्थ केयर वर्कर्स का टीकाकरण किया जा चुका है। जिसमें हरियाणा राज्य में कुल 22 जिलों में से पहले स्थान पर गुरूग्राम में 20611 और दूसरे स्थान पर फरीदाबाद में 13395 को लगाया जा चुका है।

इसके अलावा तीसरे स्थान पर हिसार में 8048, चैथे स्थान पर सोनीपत में 6902, पांचवे स्थान पर अम्बाला में 5842 लोगों ने लगाया। उन्होंने बताया कि इसके अलावा भिवानी में 4761, चरखी दादरी में 2463, फतेहाबाद में 3460, हिसार में 8048, झज्जर में 3676, जीन्द में 2981, कैथल में 3724, करनाल में 5837, कुरुक्षेत्र में 2952, महेन्द्रगढ़ में 3380, नूहं में 2686, पलवल में 3932, पंचकूला में 2887, पानीपत में 3041, रेवाड़ी में 3542, रोहतक में 3151, सिरसा में 3961 तथा यमुनानगर में 5249 हेल्थ केयर वर्कर्स को कोवैक्सीन लगाई जा चुकी है।


जिले के नोडल ऑफिसर डाॅक्टर रमेश ने बताया कि जिले में 20 हजार हेल्थ वर्कर्स को कोवैक्सीन लगाई जानी है। जिसमें से अभी तक 14 हजार हेल्थ वर्कर्स को लगाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पहले 17 जनवरी को पल्स पोलियो अभियान का चलाया जाना था। लेकिन 16 जनवरी को कोवैक्सीन शुरू हुई थी। जिसकी वजह से पल्स पोलियो अभियान को स्थगित कर दी गई थी। जिसके बाद यह अभियान अब 31 जनवरी को होगा। रविवार को पल्स पोलिया अभियान शुरू किया जाएगा। इस बार उनको टारगेट है कि करीब 3 लाख 98 हजार बच्चों को पोलियो की दो बूंद पिलाई जाएगी। रविवार को उनके सेंटरों पर दो बूंद पिलाई जाएगी और एक फरवरी व दो फरवरी को डोर टू डोर पोलियो पिलाई जाएगी। उन्होंने बताया कि पल्स पोलियो अभियान की वजह से सरकारी सेंटरों पर कोवैक्सीन नहीं लगाई जाएगी .

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More