Pehchan Faridabad
Know Your City

जिले के मेट्रो यात्रीगण ध्यान दे, जल्द ही मिलने वाली है ये नई मेट्रो व्यस्था

अब फरीदाबाद से मेट्रो उत्तर प्रदेश के नोएडा और जेवर एयरपोर्ट तक चलने को तैयारी में है। शुक्रवार को सेक्टर-12 लघु सचिवालय में हुई एफएमडीए की बैठक में इस विषय पर चर्चा हुई। इसकी अध्यक्षता एफएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वीएस कुंडू ने की। इसमें स्मार्ट सिटी फरीदाबाद लिमिटेड सहित अन्य सरकारी महकमों के अधिकारी मौजूद थे। अगर एफएमडीए द्वारा बनाई गई ये योजना सफल होती है तो भविष्य में फरीदाबाद से मेट्रो उत्तर प्रदेश के नोएडा और जेवर एयरपोर्ट तक जाएगी। इसके अलावा गुरुग्राम को भी मेट्रो से जोड़ा जाएगा।

एफएमडीए द्वारा वर्ष 2041 के लिए बनाई गई इस योजना में पब्लिक ट्रांसपोर्टर को मजबूत बनाने, सड़क और फ्लाईओवर के रूप में आधारभूत ढांचा मजबूत करने सहित अनेक विकास कार्यों को भी शामिल किया गया है। हालांकि इस योजना को ध्यान में रखकर तैयार की गई इस योजना को अब सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

एफएमडीए द्वारा बनाई गई इस योजना में हर लिहाज से शहर की कनेक्टिविटी को मजबूत पर फोकस किया गया। मेट्रो, सिटी बस, सड़क, फ्लाईओवर, बस टर्मिनल, भारी वाहनों के लिए अलग से फ्रेट कॉरिडोर बनाने आदि पर करीब 28,400 करोड़ रुपये खर्च किए जाएगे।

इतना ही नही सड़क की कनेक्टिविटी को मजबूत करने के लिए व्यापक गतिशीलता योजना के तहत जिले में विभिन्न जगह 58 फ्लाईओवर बनाए जाएंगे ताकि लोगों को ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात मिल सके और प्रदूषण भी शहर का कम हो सके। यह फ्लाईओवर बाईपास सहित शहर की उन मुख्य सड़कों पर बनाए जाएंगे, जहां वाहनों की भीड़ ज्यादा रहती है। इसके अलावा सड़कों को 60 मीटर तक चौड़ा किया जाएगा।

दो हजार बसें दौड़ेंगी
व्यापक गतिशीलता योजना में एफएमडीए ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर विशेष ध्यान दिया है। वर्ष 2041 तक जिले में करीब 2220 सिटी बसें चलाई जाएंगी। इनको अलग-अलग चरणों में सड़कों पर उतारा जाएगा। इनके संचालन के लिए 431 किलोमीटर के रूट तय किए जाएंगे।

फ्रेट कॉरिडोर के लिए अलग गलियारा बनेगा
रेलवे फ्रेट कॉरिडोर के लिए पलवल में बन रहे जंक्शन से फरीदाबाद तक भारी वाहनों के लिए अलग से कॉरिडोर तैयार किया जाएगा, ताकि फरीदाबाद सहित पलवल के औघोगिक क्षेत्रों में भारी वाहनों की आवाजाही आसानी से हो सके। फरीदाबाद और गुरुग्राम के उघोगों को देखते हुए व्यापक गतिशीलता योजना में इसका प्रावधान किया गया है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More