HomeUncategorizedभाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को...

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की ‘खीर’ को किया देशभर में फेमस

Published on

आज की कहानी बड़ी ही स्पेशल और अनोखी होने वाली है। यह कहानी उन लोगो के लिए काफी फायदेमंद होगी जिनको भोजन के बेहद लगाव है। जी हा, आज ही कहानी है खीर के ऊपर। आज हम आपको बताएंगे कि कैसे दो भाई बहन ने मिलकर एक मामूली खीर को पूरे देशभर में फेमस कर दिया है। यह कहानी है महाराष्ट्र में रहने वाले दो भाई बहन शिवांग सूद और शिविका सूद की।

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को किया देशभर में फेमस

कैसे हुई शुरुआत

साल 2017 में एक इंटरव्यू के दौरान जब शिविका और उनके भाई शिवांग से बातचीत हुई तो उन्होंने अपनी कहानी कुछ इस तरह बताई, ‘जब हम छोटे थे तो हमारी मां हमे बहुत बार खीर बनाकर खिलाती थी, खीर इतनी स्वादिष्ठ होती थी कि घर में सबको पसन्द आती थी ‘।

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को किया देशभर में फेमस

शिवांग ने बताया कि शिविका कई बार खीर खाने से बोर हो गयी तो शिविका ने अपने खीर के कटोरे में एक चमच नुटेला और ओरियो बिस्कुट डाल दिया। शिविका को यह बहुत अच्छा लगा फिर शिविका ने अपनी मां से खीर में गुलुकन्द और ब्राऊनी डालने को कहा बस फिर क्या था खीर का स्वाद सबको इतना पसन्द आया जिसका कोई जबाव नहीं।

उसके बाद खीर को अलग अलग अंदाज में बनाया गया जिसके बाद यह देखा गया कि खीर न सिर्फ घरवालो को पसंद आई बल्कि आस पड़ोस, रिश्तेदारों सबको खूब स्वादिष्ट लगी।

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को किया देशभर में फेमस

फिर मिल गयी कामयाबी

19 मई, 2017 को शिविका और शिवांग ने पुणे के औंध में ‘स्टारबक्स’ के बाहर एक ठेले पर मां के हाथ की बनी अलग-अलग फ़्लेवर की खीर बेचनी शुरू कर दी। लोगो ने जब यह ठेला देखा तो उन्होंने खीर मांगनी शुरू की।

शिवांग बताते है कि पहले दिन जब वह ठेला लेके गए थे तो उनके पास केवल 44 डब्बे थे जो उसी दिन खत्म हो गए। अगले दिन वह 82 डब्बे लेके गए और उसके अगले दिन 100 आप यकीन नहीं करेंगे की सारे डब्बे तुरंत ही खत्म हो गए। शिवांग शिविका की मां के हाथ की बनी खीर लोगो को इतनी पसन्द आयी कि बस क्या बताएं।

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को किया देशभर में फेमस

इसके बाद शिवांग और शिविका ने इंटेरनेट के जरिये सोशल मीडिया और मार्केटिंग का ज्ञान प्राप्त किया और उन्होंने इसकी ब्रांडिंग करनी शुरू करदी। जिसके बाद उन्हीने लोगो का जबरदस्त रेस्पोंस मिला और उनकी मां की हाथ की बनाई खीर आज पूरा देश खा रहा है।

इतनी बढ़ चुकी है कमाई

अपने घर की बनी खीर से सूद परिवार का नाम अब चारो ओर था फिर इन्होंने साल 2018 में पुणे की जेएम रोड पर एक दुकान स्थापित की। 2017 में सूद परिवार की कमाई 33 लाख रुपए थी फिर 2018 में यह बढ़कर 84 लाख हुई और 2020 में इनकी कमाई 1 करोड़ से अधिक हो गयी।

भाई-बहन की इस जोड़ी ने अपनी मां के हाथ की 'खीर' को किया देशभर में फेमस

पुणे में इनकी दुकान आज ‘ ला खीर डेली ‘ के नाम से मशहूर है। इस मुकाम और सफलता के लिए सूद परिवार ने बहुत मेहनत की थी जिसका नतीजा आज हम सबकी आंखों के सामने है।

Written by – Aakriti Tapraniya

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...