Pehchan Faridabad
Know Your City

छात्र ने ट्वीट किया और हो गया कमाल, इतने हज़ार का चालान हुआ माफ़

ऐसा नहीं है कि पुलिस सुनती नहीं है। पुलिस के बड़े अधिकारी खूब सुनते हैं। राहत भी देते हैं मगर सिर्फ हमें प्रयास करने में चूक नहीं करनी चाहिए। आपने ऐसे अनेक मामले सुने होंगे, जब पुलिस ने लोगों को राहत दी मगर ऐसा पहला मामला होगा जब एक छात्र का पांच हजार रुपये का चालान सिर्फ एक ट्वीट करने से रद कर दिया गया।

असल में जो लोग सोशल मीडिया का उपयोग सही अर्थों में करते हैं उन्हें इसका तुरंत फायदा आसानी से मिल जाता है मगर जो लोग इसका दुरुपयोग करते हैं, उनकी वजह से वास्तविक हकदार भी अपने अधिकार से वंचित रह जाता है।

Image result for challan india

उत्तर प्रदेश के इटावा क्षेत्र के गांव हरिहरपर निवासी छात्र दीपेंद्र यादव दो दिन पहले अपनी पढ़ाई खत्म कर शहर से मोटरसाइकिल पर गांव जा रहा था तो वाहनों की जांच कर रहे पुलिसकर्मियों का उसका पांच हजार रुपये का चालान केवल इसलिए कर दिया कि उसकी मोटरसाइकिल की नंबर प्लेट का एक नंबर हट गया था।

Image result for challan india

पांच हजार रुपये का चालान देखकर दीपेंद्र के सामने तो जैसे अंधेरा ही छा गया था मगर उसने अपनी गलती मानते हुए इटावा के एसएसपी आकाश तोमर को एक ट्वीट किया जिसमें दीपेंद्र ने कहा कि सर, मैं छात्र हूं और मेरे घर की हालत ऐसी नहीं है कि पांच हजार रुपये का चालान भुगता जा सके। हां, उसकी गलती है।

जिसके लिए वह आर्थिक की बजाये शारीरिक दंड पाने को तैयार है तथा भविष्य में ऐसी गलती किसी भी सूरत में नहीं होगी। इस माफीनामे के ट्वीट के बाद एसपी आकाश तोमर (2013 के आइपीएस अधिकारी) ने ट्वीटर पर ही दीपेंद्र का चालान रद कर दिया। दीपेंद्र के ट्वीट पर एसएसपी के इस कदम की पूरे देश में चर्चा हो रही है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More