HomeUncategorizedप्रवासी मजदूरों की शिकायतो का समाधान करने में फरीदाबाद देश के 20...

प्रवासी मजदूरों की शिकायतो का समाधान करने में फरीदाबाद देश के 20 शहरों में से रहा नंबर वन।

Published on

लॉक डाउन की शुरुआत से ही रोजगार खो चुके गरीब दिहाड़ी मजदूरों ने पलायन करना शुरू किया था जिस कारण लॉक डाउन के शुरुआत में ही लाखों दिहाड़ी मजदूर अपने पैतृक स्थानों की ओर पलायन कर गए थे और बाकी बचे लोग स्थिति सामान्य होने के इंतजार में थे जिन्होंने लॉक डाउन के एक के बाद एक चरण बढ़ने पर अपना धैर्य खो दिया और फिर से देश भर में पलायन की स्थिति देखने को मिली।

इसी स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा श्रम मंत्रालय के साथ मिलकर देश भर के 20 बड़े जिले में सर्वे किया गया जहां से बड़ी संख्या में मजदूरों ने पलायन किया था। इस सर्वे में देखा गया कि किन किन जिलों से बड़ी संख्या में दिहाड़ी मजदूरों ने पलायन किया है और उनकी तरफ से कितनी अधिक शिकायते जिला प्रशासन को प्राप्त हुई है और किस जिले में प्रशासन द्वारा इन शिकायतों का कितनी अधिक कुशलता से समाधान किया गया है।

इस सूची में सूरत, फरीदाबाद, अहमदाबाद, मुंबई शहर, गुड़गांव, झारखंड में हजारीबाग, लुधियाना, बेंगलुरु, दिल्ली, अहमदाबाद, चेन्नई और ठाणे एवं अन्य कई शहर शामिल थे।

इस सर्वे में क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया (QCI) द्वारा 30 मार्च से 14 मई के बीच श्रम मंत्रालय को दी गई शिकायतों के आधार पर एक ऑडिट तैयार किया गया जिससे पता चला है कि शिकायतों के समाधान में हरियाणा का फरीदाबाद जिला सबसे अधिक सफल रह है।

रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा का फरीदाबाद जिला 87.7% फीसदी शिकायतो का निपटारा कर सबसे अच्छा रिकॉर्ड प्रस्तुत किया है वहीं इस सूची में कोलकाता जिले ने शिकायतों को दूर करने में सबसे खराब रिकॉर्ड दिखाया है।

क्यूसीआई ऑडिट के अनुसार, लॉकडाउन की अवधि में 3,300 से अधिक सार्वजनिक शिकायतों को केंद्रीय श्रम मंत्रालय को हरी झंडी दिखाई गई है।

कैसे रहा फरीदाबाद का रिकॉर्ड इतना अच्छा :-

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार का हब है लेकिन दिल्ली में रहना और कहना काफी महंगा होने के कारण प्रवासी मजदूर दिल्ली के आसपास के क्षेत्र नोएडा गुरुग्राम फरीदाबाद इत्यादि में अपना गुजर-बसर करते हैं।

आसपास के इन सभी क्षेत्रों में भी फरीदाबाद में रहना और अपना गुजर-बसर करना सबसे सस्ता है इस कारण दिल्ली फरीदाबाद बॉर्डर से सटे फरीदाबाद में सभी गांव प्रवासी मजदूरों से भरे हुए हैं इस कारण जैसे ही लॉक डाउन की घोषणा हुई तो फरीदाबाद जिला प्रशासन ने तेजी से इस मामले में संज्ञान लेते हुए इस मामले से जुड़ी सभी शिकायतों का निपटारा करना आरंभ किया जिस कारण फरीदाबाद का रिकॉर्ड इस सूची में अव्वल रहा है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...