Online se Dil tak

इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर

आम जनता को जो सरकार सही सामान्य और जन सुविधा का चाहिए होती है उनमें सड़क, पानी, बिजली से लेकर सीवर जैसी समस्याएं शामिल होती है। इन्हें पूर्ण रूप से आमजन को मुहैया कराने वाला नेता है आम जनता के लिए उनका भगवान कहलाता है।

इन दिनों फरीदाबाद में विकास की बात करें तो जर्जर और धूल फांक की सड़कों पर अब सरकार की नजर पढ़ चुकी है। तभी तो आलम यह है कि स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत करीब 367 करोड़ की लागत से 19 सड़कों निर्माण पर आमजन को सौगात के रूप में दी जा रही हैं।

इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर
इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर

जानकारी के मुताबिक कुछ सड़कें बन तैयार भी हो चुकी है मगर इसका सुंदरीकरण व अन्य सुविधा मुहैया होने तक यह आमजन के लिए उपयोग में नहीं लाया जा सकता है मगर जल्द ही यह सब भी कार्य पूर्ण होते ही इन्हें आमजन क लिए उपहार स्वरूप प्रदान किया जाएगा।

इसी के चलते यह भी दावा किया जा रहा है कि साल के भीतर भीतर यह लड़की बनकर तैयार हो जाएंगे जिसके बाद आमजन का आवागमन इन सड़कों के माध्यम से स्वयं हो सकेगा वहीं सड़कों पर सीमेंटेड सड़क के अभाव में उड़ने वाली धूल पर भी अंकुश लगा पाने में कामयाबी हासिल हो पाएगी।

इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर
इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर

शहर की पहली स्मार्ट रोड का काम बड़खल चौक, राष्ट्रीय राजमार्ग से लेकर बाईपास तक चल रहा है।जानकारी के लिए बताते चलें कि यहां जनवरी 2019 में काम शुरू किया गया था इसकी लागत करीब 42 करोड़ आएगी। इसकी लंबाई करीब 1.67 किलोमीटर है।

इसके अलावा ओल्ड फरीदाबाद चौक से बाईपास तक भी स्मार्ट रोड बनाई जा रही है। इसका अर्थ है कि दोनों जगह रोड बन चुकी है। मगर बाकी सुविधा उपलब्ध कराने का कार्य फिलहाल जारी है। सेक्टर 21 ए और 21बी के बीच में स्मार्ट रोड भी बन चुकी है। वहीं संत नगर व फतेहपुर चंदीला में भी स्मार्ट रोड बन रही है।

इस बार इस बात को सबसे खास ख्याल रखा गया है कि स्मार्ट सिटी के सर के सीमेंटेड रुप से बखूबी बनाए जाए जोकि कम से कम एक दशक तक तो ठीक-ठाक रह सके। वहीं 5 साल तक सड़क के रखरखाव की जिम्मेदारी सड़क बनाने वाली कंपनी के अधीन ही होगी।

खास बात तो यह है कि इस बार इन सड़कों पर साइकिल सवारों पैदल चलने वालों के लिए अलग लेन भी चिन्हित की जाएगी। इसके अलावा राहगीरों को वाईफाई की भी सुविधा मिलेगी। वही अंधेरा होते ही लाइट अपने आप जल उठेगी और सड़कों पर जगमगाती रहेंगी। इसका फायदा देखा जाए तो यह होगा कि सड़कों पर होने वाले अंधेरे के कारण दुर्घटना पर भी लगाम लग सकेगा।

समय समय पर वाहन चालकों को ट्रैफिक की पूरी जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी। संकट के समय पैनिक बटन दबाते ही लोगों को तत्काल पुलिस की मदद मिल सकेगी। सड़क के दोनों और आधुनिक में आकर्षक वेडिंग जॉन भी बनाया जाएगा। वाईफाई के पॉइंट लगाए जाएंगे। इसके अतिरिक्त इन सड़कों के किनारे एक भी बिजली के पोल नजर नहीं आएंगे।

इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर
इस साल के भीतर स्मार्ट सिटी की सारी सड़कें होंगी तैयार, कई स्मार्ट सड़के अपने अंतिम चरण पर

स्मार्ट सिटी परियोजना की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ गरिमा मित्तल बताती हैं कि सभी स्मार्ट रोड पर तेजी से काम चल रहा है। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण सड़कों का निर्माण कार्य बंद था। इस साल सभी सड़कों काम पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनता फिलहाल जिस समय से परेशानी से गुजर रही है जल्द ही मिलने वाली सुविधा आमजन को सुकून देने वाली होगी।

Read More

Recent