HomeCrimeपी.ओ. और बेल जम्पर की अब खैर नही, जल्द होंगें सलाखों के...

पी.ओ. और बेल जम्पर की अब खैर नही, जल्द होंगें सलाखों के पीछे

Published on

पुलिस कमिश्नर ओ.पी सिंह ने आज अपने कार्यालय सै0 21 सी में सभी डी.सी.पी, एसीपी, थाना प्रबंधक, चोकी इन्चार्ज, सी.आई.ए युनिट के साथ मिटिंग कर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए है।

मिटिंग के दौरान उन्होने कहा कि पी.ओ, बेल जंपर, और पैरोल पर आकर फरार होने वाले अपराधियों की धर पकड के लिए विशेष अभियान चलाया गया है। अभियान के दौरान अपराधियों को सलाखों के पिछे भेजा जाएगा।

पी.ओ. और बेल जम्पर की अब खैर नही, जल्द होंगें सलाखों के पीछे

उन्होनें जानकारी देते हुए बताया कि यह अभियान 16 फरवरी से जिले में शुरू किया जाएगा। अभियान के तहत पी.ओ, बेल जंपर, पैरोल पर आकर फरार हुए अपराधियों को पुलिस गिरफतार कर सलाखों के पिछे भेजगी।

इस दौरान उन्होंने सभी डी.सी.पी एंव एसीपी को कहा कि शहर में कानून व्यवस्था को दुरूस्त रखें। असामाजिक तत्वों पर पुलिस की हर समय पैनी नजर होनी चाहिए अगर उनकी गतिविधियां सही नही है तो उनको सलाखों के पीछे भेजा जाए।

पी.ओ. और बेल जम्पर की अब खैर नही, जल्द होंगें सलाखों के पीछे

पुलिस शहर वासियों को सुरक्षा का माहोल देने में सक्षम है पिछले कुछ समय से देखा जाए तो पुलिस ने बडे-बडें अपराधियों को सलाखों के पिछे भेजा है।

इस दौरान उन्होने डी.सी.पी ट्रेफिक और ए.सी.पी ट्रैफिक और एस.एच.ओ ट्रैफिक को कहा कि बिना नंबर प्लेट वाहनों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जाए। शहर में बिना नंबर प्लेट के वाहन सडको पर नही दौडने चाहिए।

पी.ओ. और बेल जम्पर की अब खैर नही, जल्द होंगें सलाखों के पीछे

उन्होने कहा कि चोरी, लुट, डैकती, स्नैचिंग की जैसी वारदातों को अंजाम देने वाले आरोपी बिना नंबर प्लेट के वाहनों को इस्तेमाल करते है। पुलिस बिना नंबर प्लेट वाहनों पर शिकंजा कसेगी तो अपराध पर और ज्यादा लगाम लगाई जा सकेगी।

सी पी ओ पी सिंह ने कहा कि अपराधियों को यह बात अच्छे से समझ लेनी चाहिए कि फरीदाबाद शहर में उनके लिए बस इक जगह है वो है जेल। उन्होनें कहा कि या तो अपराधी स्वयं अपने अपको पुलिस के हवाले कर दे या फिर वह गिरफतार होने के लिए तैयार रहें। पुलिस कभी भी उन तक पहुंच सकती है।

उन्होंने कहा कि कुछ अपराधियों को वहम हो जाता है कि वह अपराध करते रहेंगें और उनका कुछ नही होगा, अपराधी किस्म के लोगों को पता होना चाहिए कि उनका अपराध का कार्याकाल बहुत छोटा होता है। ज्यादातर वक्त तो उन्हें सलाखों के पिछे बिताना पडता है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...