HomeFaridabadजब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद...

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

Published on

फरीदाबाद में कितने ऐसे कार्य है जिनको काफी समय पहले पूरा होना था लेकिन अभी तक फरीदाबाद के लोगो का सपना साकार होता नजर नहीं आ रहा है बात करते है ।

मंझावली पूल की जिसको लेकर यह दावा किया गए था की यह जुलाई तक पूरा हो जाएगा लेकिन जिस प्रकार से इस पुल पर कार्य चल रहा है उसको देखकर नहीं लगता की यह कार्य पूरा हो पायेगा ।

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

बता दे की ग्रेटर नोएडा से फरीदाबाद को जोड़ने के लिए यमुना नदी पर मंझावली पूल बनाया जा रहा था इसका काम भी अपने अंतिम चरण पर दिखाई दे रहा है , हालाँकि अभी तक पुल दोनों ओर बनाये गए खम्भे पर गार्डर रखे जा रहे है।

यह पुल फ़रीदाबाद से नोयडा के रास्ते को जोड़ेगा लेकिन एक समस्या के चलते हुए लोग इस पूल का उपयोग नहीं कर सकेंगे क्योंकि इस पूल को जोड़ने वाली सड़क ही नदारत है ।

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

नोएडा से फरीदाबाद की दूरी को कम करने के लिए निर्माण में अभी काफी समय लगने वाला है इस रोड का कार्य नहीं हो सका है इस जमीन का अधिग्रहण प्रस्ताव सरकार की अनुमति मिलने के बाद ही सड़क को चौड़ा करने के लिए जमीन अधिकृत करने का काम शुरू होगा ।

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

आपको बता दें कि फरीदाबाद से ग्रेटर नोएडा की कनेक्टिविटी में सुधार करने के लिए 24 किलोमीटर लंबी परियोजना पर काम हो रहा है।

साथ ही मंझावली गांव में यमुना नदी पर फोरलेन पुल बनने वाला था यह पुल फरीदाबाद शहर को जोड़ने के लिए 19 किलोमीटर लंबी भी यूपी की सीमा से लगभग 5 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई जानी है

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 15 अगस्त 2014 में पुल की आधारशिला रखी थी मगर 122 करोड रुपए की लागत से मंझावली में यमुना पुल पर 630 मीटर लंबे पुल का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया था इस प्रोजेक्ट के तहत कई बार डेडलाइन बनी पर काम पूरा नहीं हो सका इस बार जुलाई की डेडलाइन तय की गई है

मंझावली पुल में बनने में सड़क का निर्माण होने के बाद फरीदाबाद में गुड़गांव के बीच की दूरी केवल 25 मिनट की दूरी रह जाएगी फिलहाल फरीदाबाद से नोएडा जाने के लिए केजीपी एक्सप्रेसवे का सहारा लेना पड़ता है

जब सड़क ही नही हैं तो मंझावली पुल का क्या करेगी फरीदाबाद की जनता ?

या फिर कालिंदी कुंज होकर जाना होता है इन दोनों रास्ते के जरिए नोएडा पहुंचने के लिए करीबन डेढ़ घंटा लग जाता है लेकिन जब यह पुल कनेक्टिविटी जुड़ जाएगी तो फरीदाबाद से नोएडा के की दूरी मात्र 15 मिनट की रह जाएगी

फिलहाल सड़क निर्माण में अड़ंगा लगा हुआ होने के कारण स्कूल का उपयोग आम लोग नहीं कर पाएंगे जब तक सड़क नहीं होगी तब तक पुल तक जाने के लिए भी राह कठिन ही होगी

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...