Online se Dil tak

निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान

फरीदाबाद जिला एक ऐसा जिला है जिसे कई उपलब्धियों से नवाजा जा चुका है। इन उपलब्धियों में स्मार्ट सिटी से लेकर औद्योगिक नगरी जैसे नामों से फरीदाबाद को संबोधित किया गया है।

मगर आज भी इतने प्रसिद्ध जीव के बावजूद यहां आम जनता मूलभूत सुविधाओं के लिए त्रस्त दिखाई देती है। मूलभूत सुविधाओं में पानी, सड़क, सीवर और पार्किंग की सुविधा मुहैया कराना हर प्रशासन का कार्य होता है।

निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान
निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान

मगर आश्चर्य की बात तो यह है कि यहां नगर निगम अपना काम ढंग से नहीं करता और चालान बिना मतलब के आमजन का कट जाता है। दरअसल, फरीदाबाद जिले में कई ऐसे नामचीन मार्केट हैं जो हमेशा व्यस्त रहती है

और यहां सैकड़ों लोगों का सुबह से शाम हो या रात तक तांता लगा रहता है। इन मार्केट में फरीदाबाद का एक नंबर मार्केट, बल्लभगढ़ मार्केट व सेक्टर 7, 8, 9 और 10 की मार्केट शामिल है। खास बात तो यह है कि मार्केट है हमेशा व्यस्त दिखाई देती है।

निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान
निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान

यहां दूर-दूर से लोग शॉपिंग करने पहुंचते हैं। मगर जो सबसे बड़ी समस्या निकल कर आती है वह होती है पार्किंग की समस्या। आजकल हर कोई अपने निजी वाहन में आवागमन करना पसंद करता है।

यही कारण है कि इन मार्केट में वाहनों के आने से जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती हैं, और इसका कारण यह है कि यहां पर किसी भी मार्केट में पार्किंग व्यवस्था का नामोनिशान तक नहीं है।

निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान
निगम की मनमानी पर भारी पड़ी पुलिस विभाग की चेतावनी, नहीं किया समाधान तो आमजन करेगी भुगतान

वहीं दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन ने गलत तरीके से वाहन पार्क करने पर चालान काटने का आदेश जारी किया हुआ है। मगर यहां पर प्रश्न यह उठता है कि अगर पार्किंग जैसे सुविधा ही नहीं मुहैया करवाई जाएगी तो आमजन अपनी वाहनों को कहां पर पार्क कर सकते हैं।

यदि जैसे तैसे पार कर भी दिया तो उनकी जेब से चालान के नाम पर वसूली करना तो तय हैं। अगर आमजन को वाहन पार्क भी करना पड़े तो पार्किंग व्यवस्था ही नहीं है। इसका अर्थ यही है कि चाहे कुछ भी हो जाए लेकिन परेशानी आमजन को ही भुगतना पड़ेगी।

Read More

Recent