HomeFaridabadलॉक डाउन में फरीदाबाद जिला प्रशासन एवं जनता के बीच दिखी आपसी...

लॉक डाउन में फरीदाबाद जिला प्रशासन एवं जनता के बीच दिखी आपसी तालमेल की कमी

Published on

लॉक डाउन के चलते अब तक फरीदाबाद जिले में 200 से अधिक संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो चुकी है और 7 लोगों की जान इस वायरस के चलते अभी तक फरीदाबाद जिले में जा चुकी है जो पूरे हरियाणा राज्य में किसी भी जिले में सबसे अधिक है।

कोरोना का इतना विकराल रूप जिले में होने के बावजूद भी जिले में किसी भी नियम के पालन में कोई सख्ती नहीं देखने को नहीं मिल रही है जिसका एक बड़ा कारण जिला प्रशासन द्वारा जारी की जा रही गाइडलाइन का सही ढंग से जनता के बीच ना पहुंच पाना भी है।

लॉक डाउन में फरीदाबाद जिला प्रशासन एवं जनता के बीच दिखी आपसी तालमेल की कमी

कुछ ऐसे उदाहरण जिनसे जिला प्रशासन और जनता के बीच संपर्क में आभाव का पता चलाता है।

लॉक डाउन के चौथे चरण में राज्य सरकार ने निर्णय लिया कि ऑटो, कैब, टैक्सी इत्यादि को चलाने की छूट दी जाएगी। जिसके लिए गाइडलाइंस भी जारी की गई लेकिन वह गाइडलाइंस सही ढंग से जिला प्रशासन द्वारा जनता के बीच तक नहीं पहुंचाई गई जिस कारण ऑटो में सामान्य दिनों की भांति लोग सवार हुए दिखे।

इसी प्रकार बीते दिनों भी सैलून पार्लर इत्यादि खोले जाने को लेकर भी सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस और सरकार के निर्णय में तेजी से किए गए फेरबदल की सूचना लोगों तक नहीं पहुंच पाई। जिस कारण दुकानदारों एवं जनता में असमंजस की स्थिति बनी रही।

लॉक डाउन में फरीदाबाद जिला प्रशासन एवं जनता के बीच दिखी आपसी तालमेल की कमी

वही जिला प्रशासन द्वारा जारी की गई सूचना पुलिस तक भी सही ढंग से नहीं पहुंच पा रही है जिस कारण पुलिस भी सरकारी सूचनाओं को जनता पर लागू करने में असफल साबित हो रही है।

जिले की वर्तमान स्थिति को देखा जाए तो डबुआ एवं जिले की अन्य सब्जी मंडियां कोरोना हॉट स्पॉट बनी हुई है और बड़ी संख्या में मरीज इन मंडियों से सामने आ रहे हैं लेकिन इन मंडियों पर भी नियंत्रण कर पाने में फरीदाबाद जिला प्रशासन असफल साबित होता हुआ नजर आ रहा है जिसका कारण भी आपसी तालमेल की कमी ही है।

वही बात करें कंटेनमेंट जॉन की तो जारी की गई नई कंटेनमेंट जॉन की सूची में जिले के 41 क्षेत्रों को शामिल किया गया है लेकिन इन क्षेत्रों में जाने पर पता चलता है कि वहां पर कंटेनमेंट जॉन जैसी कोई भी स्थिति नहीं है और लोग अपनी मनमर्जी से लॉक डाउन के नियमों का मजाक बना रहे हैं।

लॉक डाउन में फरीदाबाद जिला प्रशासन एवं जनता के बीच दिखी आपसी तालमेल की कमी

लॉक डाउन के दौरान फरीदाबाद जिला प्रशासन प्रवासी मजदूरों की समस्या हल करने में देश के 20 जिलों की सूची में प्रथम स्थान पर रहा है जिसकी सराहना की जानी चाहिए। लेकिन जिला प्रशासन केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा जारी की जा रही गाइडलाइंस एवं लॉक डाउन के नियमों की पालना फरीदाबाद जिले की जनता से नहीं करा पा रहा है जिसमें कहीं ना कहीं जनता एवं जिला प्रशासन के बीच संपर्क का अभाव नजर आता है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...