HomeFaridabadनिजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना...

निजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना टीका लगवाए गए वापिस

Published on

निजी अस्पताल द्वारा नहीं दिखाई जा रही है रूचि, बिना टीका लगाया वापस भेज रहे हैं बुजुर्गों को निजी अस्पतालों के द्वारा टीकाकरण में किसी प्रकार की कोई भी रुचि नहीं दिखाई जा रही है।

सोमवार को 60 साल से ऊपर वाले बुजुर्ग व 45 साल से 59 साल तक के क्रॉनिक डिजीज वाले लोगों को टीकाकरण लगना शुरू हुआ था। सोमवार को करीब 10 सेंटरों पर 920 लोगों को टीका लगा था।

निजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना टीका लगवाए गए वापिस

लेकिन मंगलवार को निजी अस्पतालों में टीका लगवाने गए बुजुर्गों को बिना टीका लगाए वापस भेज दिया। बताया जा रहा है उनके द्वारा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया गया था। जिसके बाद उन्होंने अपना समय, स्थान और स्वास्थ्य केंद्र का चयन किया।

जिसके बाद जब बुजुर्ग स्वास्थ्य केंद्र पर टीका लगवाने के लिए गए, तो उनको यह कहकर मना कर दिया गया कि वैक्सीन अभी नहीं है। इसीलिए कल आना। ऐसा मंगलवार को कई निजी अस्पतालों में देखने को मिला।

निजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना टीका लगवाए गए वापिस

मंगलवार को यूपीएसपी मेवला महाराजपुर पर संता और चांद नारायण के द्वारा टीका लगवाने के लिए गए। लेकिन उनको यह कहकर मना कर दिया कि वैक्सीन खत्म हो चुकी है इसीलिए कल आना उन्होंने बताया कि उनके द्वारा ऑनलाइन रजिस्टर करवाया गया था।

जिसमें उन्होंने 9 बजे से लेकर 5 बजे का समय व यूपीएससी मेवला महाराजपुर स्वास्थ्य केंद्र का चयन किया था।

लेकिन उक्त स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचने के बाद उनको वैक्सीन लगाने से मना कर दिया गया। नोडल ऑफिसर डॉ रमेश का कहना है कि मंगलवार को करीब 13 सैंटरो पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है।

निजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना टीका लगवाए गए वापिस

इन सेंटरों पर आने वाले सभी बुजुर्गों की सुविधा के लिए सभी प्रकार के इंतजाम किए हुए हैं। इसके अलावा इन सेंटरों में कुछ निजी अस्पताल भी शामिल है।

निजी अस्पतालों के द्वारा हर रोज बीके अस्पताल के को वैक्सीन सेंट्रल से निजी अस्पतालों को डिमांड के अनुसार दिए जाते हैं। उन्होंने बताया कि निजी अस्पताल को हर रोज को वैक्सीन ले आना अनिवार्य है लेकिन मंगलवार को कई निजी अस्पतालों के द्वारा वैक्सीन लेकर नहीं गए हैं।

निजी अस्पताल नही देखा रहे टीका करण में रुचि, कई बुज़ुर्ग बिना टीका लगवाए गए वापिस

जिसकी वजह से उन्होंने टीका लगवाने आए बुजुर्गों को मना कर दिया है। डॉ रमेश ने बताया कि उनके जितने भी सरकारी स्वास्थ्य केंद्र है। उस पर वैक्सीन की तादाद भरमार है। लेकिन निजी अस्पताल को हर रोज आकर बीके अस्पताल से वैक्सीन लेनी होती है।

अगर कोई निजी अस्पताल से वैक्सीन लेने आया ही नहीं, तो वह कैसे करें । उन्होंने बताया की स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सभी निजी अस्पतालों को आदेश दिया जाएगा, कि वह समय पर आकर हर रोज वैक्सीन लेकर जाए। ताकि टीका लगवाने आये लोगों को किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो। उन्होंने बताया कि तीसरे चरण में करीब 400000 लोगों को टीका लगाया जाएगा।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...