Homeकलयुग है या दुष्कर्मयुग है, पवित्र रिश्ते हो गए शर्मसार, सगे भाई...

कलयुग है या दुष्कर्मयुग है, पवित्र रिश्ते हो गए शर्मसार, सगे भाई ने बहन के साथ किया….

Published on

भाई बहन का रिश्ता हमारी भारतीय संस्कृति में सबसे पवित्र माना जाता है। इस पवित्रता को कुछ पापी लोग समाप्त करने में लगे हैं। दरअसल, हरियाणा के यमुनानगर जिले में भाई-बहन के रिश्ते को शर्मसार करने का मामला प्रकाश में आया है। नाबालिग भाई मानसिक रूप से बीमार सगी बहन से दुष्कर्म करता रहा।

हमारे देश में ऐसा कहा जाता है कि बड़ी बहन माँ के बराबर होती है। लेकिन इस भाई ने उसको मां नहीं कुछ और ही समझ लिया। इस मामले में बहन की तबीयत खराब होने पर जब परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे तो पांच माह के गर्भ का पता चला।

कलयुग है या दुष्कर्मयुग है, पवित्र रिश्ते हो गए शर्मसार, सगे भाई ने बहन के साथ किया....

हमारे जीवन में बहन एक ईश्वरीय आशीर्वाद है। इस आशीर्वाद को संभालने की जगह कुछ लोग उसका उपयोग कर रहे हैं अपनी कुछ इच्छाओं के लिए। इस मामले में पूछताछ में सच्चाई उजागर हुई है। अस्पताल प्रबंधन की सूचना पर पहुंची पुलिस ने किशोरी और परिजनों के बयान दर्ज किए। साथ ही मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। 

सांकेतिक तस्वीर।

इस घटना से सिर्फ हरियाणा ही नहीं बल्कि पूर्ण विश्व को शर्म आ रही है। भाई-बहन के रिश्ते को यह मामला शर्मसार कर रहा है। किशोरी के माता-पिता काम पर चले जाते थे। उनका बेटा और मानसिक रूप से बीमार बेटी घर पर रहते थे। माता पिता को किशोरी के पैरों में सूजन व आंखों में पीलापन दिखाई दिया।

कलयुग है या दुष्कर्मयुग है, पवित्र रिश्ते हो गए शर्मसार, सगे भाई ने बहन के साथ किया....

अपनी बिटिया की ऐसी हालत देखकर वो तुरंत उसे अस्पताल ले गए। वहां जाकर जो पता चला वो कभी वह भूल नहीं पाएंगे। दरअसल वहां, चिकित्सकों ने जांच की तो किशोरी पांच माह की गर्भवती निकली। यह सुनकर परिजन हैरान रह गए।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...