HomeFaridabadसड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क... सिर्फ़ सड़क ही नही इस...

सड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क… सिर्फ़ सड़क ही नही इस कॉलोनी का नाम गड्ढों से घिरा

Published on

सैक्टर 29 के पूल पार पर बनी इन्द्रा कॉमप्लेक्स की गड्ढा कॉलोनी पिछले कई साल से मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रही है। इस कॉलोनी में पानी की कोई व्यवस्था नही है और न ही सड़को व साफ सफाई की।

इन व्यवस्थाओं के लिए मोहल्लेवासी जनप्रतिनिधियों से कई बार गुहार लगा चुके हैं। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। समस्याओं से जूझ रहे लोग नगर में रहते हुए ग्रामीण परिवेश में रहने को मजबूर हैं।

सड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क... सिर्फ़ सड़क ही नही इस कॉलोनी का नाम गड्ढों से घिरा

यह कॉलोनी जब से बनी है तब से लेकर आज तक उसकी हालत खराब ही है। लोगो का यह तक कहना है कि उनकी कॉलोनी में कभी भी कोई रोड थी ही नही और ना कभी बनाई गई। सिर्फ़ रोड ही नही यहां पर सीवर की भी बहुत खराब दशा है।

जनप्रतिनिधि वोट माँगने आ जाते है लेकिन उसके बाद उनकी अनदेखी का शिकार लोग बनते है। वोटिंग के वक़्त कई जनप्रतिनिधि आए लेकिन किसी ने भी विकास की सुध नहीं ली। सिर्फ़ इतना ही नही पिछ्ले साल चुनाव के दौरान यहां पर सीवर के पाइप डाले गए थे।

लेकिन वो आज तक शुरु नही किए गए जगह जगह मिट्टी खुदवा दी गई लेकिन काम अभी तक ज़ारी नही किया गया। सीवर के गन्धे पानी से लोगों को बिमारियों का डर भी सता रहा है।

कॉलोनी में गड्ढे पर गड्ढे ,रास्ता नही है।

गड्ढा कॉलोनी में सड़कों की हालत जर्जर है। यहां थोड़ी सी ही बारिश के बाद सड़कों पर पानी भर जाता है, जिससे लोगों को आने-जाने में परेशानी होती है। यूं तो इस कॉलोनी में पहुंचने दो रास्ते हैं। लेकिन इनमें से एक भी रास्ता ठीक नही है।

सड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क... सिर्फ़ सड़क ही नही इस कॉलोनी का नाम गड्ढों से घिरा

बारिश में अक्सर पानी भर जाता है। जिसकी वजह से लोग बहुत परेशान है। उन्हे अक्सर चलने व वाहन चलाने पर इन रास्तों का सामना करना पड़ता है जिसमें कई बार उनकी गाडियाँ फसी है। लोगों ने कई बार यहां की सड़क को लेकर शिकायत भी की लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हो रही है।

पाइप लगाने के बाद भी सीवर का कोई समाधान नही

इस मोहल्ले में ने सीवर की कोई व्यवस्था है। पिछ्ले साल वोटिंग के समय यहां पर पाइप डाले गए थे। लेकिन बीच बीच में कोई पाइप नही डाले है। यहां डाले है वो अभी तक शुरु नही किए गए है। जिसकी वजह से सीवर की हालत अब भी खराब ही है।

खुला सीवर होने की वजह से लोगो को बिमारियों का खोफ सताता है । इसके अलावा यहां न ही प्रकाश व साफ सफाई की कोई सुविधा है।

Written by: Isha singh

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...