HomeGovernmentदाम सुनकर चौंक जाएंगे आप, सिर्फ़ 30 मिनट और 90 रूपए में...

दाम सुनकर चौंक जाएंगे आप, सिर्फ़ 30 मिनट और 90 रूपए में मिलेगी कोरोना रिपोर्ट

Published on

एक तरफ कोरोना से लोगों की जान जा रही है और दूसरी तरफ बड़े से बड़े देश की अर्थव्यवस्था के पैरों तले जमीन खिसक रही है ।भारत घनी आबादी वाला देश और उपर से 4500 रुपए का कोरोना टेस्ट यूं मानो धन से भी तंग और मन से भी तंग । लेकिन हिंदुस्तान में माहिर लोगों की कमी नहीं है इसलिए एक आधुनिक यंत्र से अब कोरोना का जांच केवल सस्ते के साथ साथ कम समय में होगी ।

कितनी देर में और कितने रूपए में होगी जांच

दाम सुनकर चौंक जाएंगे आप, सिर्फ़ 30 मिनट और 90 रूपए में मिलेगी कोरोना रिपोर्ट

सीएसआईआर और रिलायंस ने संयुक्त रूप से एक ऐसे आरटी-लैंप टेस्ट को विकसित किया है, जिससे केवल 30 मिनट में जांच की रिपोर्ट आ जाएगी। इसकी लागत भी केवल 90 रुपये ही होगी। इसका परीक्षण शुरू किया गया है और इसके सफल रहने के बाद आईसीएमआर ने भी मंजूरी देदी है। यह आरटीपीसीआर जैसा ही टेस्ट होता है, जो वायरस की पहचान करता है।

कोरोना वायरस की जांच की गति को और तेज करने के लिए जल्द ही एक नया टेस्ट देश में उपलब्ध होगा। सीएसआईआर की जम्मू स्थित प्रयोगशाला इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन के निदेशक राम विश्वकर्मा ने बताया कि रिलायंस के साथ मिलकर यह टेस्ट विकसित किया जा चुका है। इस कामयाबी से अब देश को अधिक धन और अधिक समय से भी राहत मिलेगी । कम लागत और कम समय में कोरोना जांच कराई जा सकेगी ।

यात्रा पर जाने से पहले 30 मिनट में होगा कोरोना टेस्ट ।

दाम सुनकर चौंक जाएंगे आप, सिर्फ़ 30 मिनट और 90 रूपए में मिलेगी कोरोना रिपोर्ट

उन्होंने कहा कि सभी मंजूरियां मिलने के बाद इसे बड़े पैमाने पर बाजार में उतारने की योजना है। ताकि जल्द ही मौके पर ही कोरोना की जांच हो जाए। मौजूदा आरटीपीसीआर टेस्ट करने के लिए मशीनों की जरूरत होती है, जिसकी कीमत 15 लाख रुपये है। इसमें मशीन की जरूरत नहीं होती है बल्कि आरएनए टेंपलेट इस्तेमाल किया जाता है।

आरटी लैंप टेस्ट से तीस मिनट में नतीजा मिलता है और एक टेस्ट की लागत 90 रुपये के करीब आएगी। इसका फायदा यह है कि इसे रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डों, अस्पतालों, क्लीनिकों में इस्तेमाल किया जा सकता है । इस कामयाबी के बाद अब मौके पर ही जांच करी जा सकेगी । इसी प्रकार कामयाबी हासिल होती रहेंगी तो हिंदुस्तान इस घातक बीमारी से जल्द ही मुक्त हो जाएगा ।

Latest articles

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...

ग्रेटर फरीदाबाद में कछुये की रफ़्तार से हो रहा है कार्य, कई महीनों से बंद हैं आस-पास के रास्ते

फरीदाबाद में बाईपास रोड पर दिल्ली-मुंबई-वडोदरा-एक्सप्रेसवे के लिंक रोड पर बीपीटीपी एलिवेटेड पुल का...

More like this

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...