Homeहरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, इतने कानूनों से हटा पंजाब का नाम,...

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, इतने कानूनों से हटा पंजाब का नाम, सालों से था इंतज़ार

Array

Published on

प्रदेश सरकार ने एक ऐसा फैसला लिया है जिसका इंतज़ार सालों से सभी कर रहे थे। हर हरियाणावासी को इसका इंतज़ार था। दरअसल, मनोहर लाल सरकार ने राज्य के 150 से अधिक कानूनों से पंजाब का नाम हटा दिया है। विधानसभा ने हरियाणा संक्षिप्त नाम संशोधन विधेयक, 2021 पर मुहर लगा दी। राज्यपाल और राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद प्रदेश के सभी कानूनों से पंजाब शब्द हट जाएगा।

इस विधेयक के पारित होते ही पंजाब नाम हटकर हरियाणा का नाम कानूनों में जुड़ जायेगा। अब प्रदेश के नाम से ही इन कानूनों का वर्णन होगा। सालों से यह काम अटका हुआ था। हरियाणा के बजट सत्र के अंतिम दिन कुल छह विधेयक पारित किए गए।

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, इतने कानूनों से हटा पंजाब का नाम, सालों से था इंतज़ार

इस विधेयक को पास करवाने के लिए काफी समय से पूर्व नेताओं ने भी प्रयास किया था। 163 कानूनों को हटाया जाना था लेकिन नौ कानून फिर भी ऐसे रहेंगे, जिनसे पंजाब का नाम नहीं हटेगा। जिनसे अब नाम हटेगा वो हैं, पंजाब श्रमिक कल्याण निधि (हरियाणा संशोधन) विधेयक, हरियाणा आकस्मिकता निधि (संशोधन) विधेयक, हरियाणा पंचायती राज (संशोधन) विधेयक, हरियाणा लोक व्यवस्था में विघ्न के दौरान क्षति वसूली विधेयक और हरियाणा विनियोग (संख्या 2) विधेयक शामिल हैं।

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, इतने कानूनों से हटा पंजाब का नाम, सालों से था इंतज़ार

1966 में हरियाणा पंजाब से अलग होकर एक राज्य बना था। उसी समय से अभी तक यह कार्य नहीं हो सका। पिछले साल विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने इस मुद्दे को उठाया था। स्पीकर के आदेशों पर ही इसके लिए एलआर की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया है। इसमें चार अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे।

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, इतने कानूनों से हटा पंजाब का नाम, सालों से था इंतज़ार

1966 में हरियाणा देश का 17वा राज्य बना था। बीडी शर्मा पहले मुख्यमंत्री बने थे। देर से सही लेकिन अब इन कानूनों से पंजाब का नाम हटने जा रहा है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...