Pehchan Faridabad
Know Your City

अच्छे कार्य करने वाले पुलिसकर्मीयों का मनोबल बढाने के लिए दिया जाता है प्रशंसा पत्र :-डॉक्टर अर्पित जैन डीसीपी मुख्यालय

डीसीपी मुख्यालय ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह द्वारा फरीदाबाद शहर में अच्छे कार्य करने वाले एवं अपराधियों को दबोच कर हिम्मत और दिलेरी का परिचय देने वाले 856
पुलिसकर्मियों को प्रथम श्रेणी प्रशंसा पत्र दिया गया है।

उन्होने जानकारी देते हुए बताया कि फरीदाबाद पुलिस थानों व् क्राइम ब्रांचो में तैनात कई पुलिसकर्मीयों ने अपराध की रोकथाम में बहुत ही सराहनीय कार्य किया है सैकड़ों अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुँचाया है।

पुलिस कमिश्नर ने 856 पुलिस कर्मियों को प्रशंसा पत्र देकर प्रोत्साहित किया है जिसमे प्रभारी अपराध शाखा सेक्टर 17 निरीक्षक संदीप कुमार, प्रभारी अपराध शाखा सेंट्रल निरीक्षक सुरेंदर, प्रभारी अपराध शाखा बॉर्डर निरीक्षक सेठी मलिक, प्रभारी महिला थाना बल्लभगढ़ महिला निरीक्षक माया, प्रभारी अपराध शाखा सेक्टर 48 उप-निरीक्षक राकेश, प्रभारी अपराध शाखा सेक्टर 85 उप-निरीक्षक सुमेर सिंह, प्रभारी अपराध शाखा ऊंचा गांव उप-निरीक्षक जगमिंदर, सहायक उप-निरीक्षक सुभाष अपराध शाखा सेक्टर 48, मुख्य सिपाही आनंद अपराध शाखा डीएलएफ, मुख्य सिपाही नरेंदर अपराध शाखा सेक्टर 48, सिपाही अनिल अपराध शाखा डीएलएफ, सिपाही मनोज अपराध शाखा सेक्टर 30, आईटी एक्सपर्ट एएसआई कमल एवं अन्य पुलिसकर्मचारी शामिल है।

इंस्पेक्टर संदीप मोर प्रभारी अपराध शाखा सेक्टर 17 व P/SI रविन्द्र ने नवम्बर 2020 से लेकर अब तक बहुत ही इमानदारी कर्मठता व साहस से फरीदाबाद पुलिस के लिए सराहनीय कार्य किए हैं जिसमें इन्होंने 14 अपराधी मोस्ट वांटेड इनामी बदमाश को सलाखों के पीछे भेजा है जिनमें 200000 का एक इनामी बदमाश, 50000 के दो इनामी बदमाश व 25000 रुपये के 4 इनामी बदमाश व 5000 रुपये के 7 इनामी बदमाश शामिल है इसी कड़ी में कार्य करते हुए इंस्पेक्टर संदीप मोर ने अपने कुशल नेतृत्व का परिचय देते हुए हत्या व लूट के संगीन अपराधो को सुलझाने में कामयाबी हासिल की और 14 अपराधी मोस्ट वांटेड इनामी बदमाश व गांजा बेचने वालों पर नकेल कसते हुए 15 गांजा तस्करों को सलाखों के पीछे भेजा है।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 30 की बात करें तो उसने 23 पिओ गिरफ्तार किए हैं इसके अलावा ₹50000 के तीन इनामी बदमाश ₹25000 का एक और ₹5000 के चार इनामी बदमाशों को काबू किया है एवं नशा तस्करी और अवैध असला रखने वाले दर्जनों अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया है।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 85 की बात करें तो उन्होंने नाजायज असला रखने वाले 30 अपराधियों एवं लूट स्नैचिंग के अपराध में 53 अपराधियों, 16 पीओ और मर्डर के केस में संलिप्त 8 आरोपियों के अलावा गांजा, चरस, स्मैक की तस्करी करने वाले 21 अपराधियों को दबोच कर उनसे 115 किलो गांजा, 342 ग्राम स्मैक, 1250 ग्राम चरस बरामद की है।

अगर बात करें महिला थाना बल्लभगढ़ में तैनात इंस्पेक्टर माया तो उन्होंने भी महिला अपराध की रोकथाम में बहुत ही सराहनीय कदम उठाए हैं इस दौरान उन्होंने महिला विरुद्ध अपराध के कई आरोपियों को जेल में पहुंचाया है।

क्राइम ब्रांच बदरपुर बॉर्डर एवं क्राइम ब्रांच ऊंचा गांव, क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 और डीएलएफ की टीम ने भी सराहनीय कार्य करते हुए कई आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया है।

साइबर अपराध शाखा ने जामताड़ा से एक बहुत बड़े साइबर गिरोह का भंडाफोड़ करने में कामयाबी हासिल हुई थी इसके अलावा मैजिक पेन गिरोह एवं आरबीएल बैंक गिरोह का भी भंडाफोड़ करने में कामयाबी हासिल हुई थी।

बात करें ट्रैफिक पुलिस एवं थानों में तैनात पुलिसकर्मियों की तो उन्होंने भी अपनी ड्यूटी को अच्छे से निभाया है। जिसके चलते पुलिस कमिश्नर ने फरीदाबाद शहर में तैनात सराहनीय कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को प्रथम श्रेणी प्रशंसा पत्र दिया है।

इसके अलावा श्रीमान पुलिस आयुक्त ने आईटी एक्सपर्ट एएसआई कमल को भी सम्मानित किया है। एएसआई कमल फरीदाबाद में सभी थानों, एसीपी, डीसीपी, सीपी, ऑफिस, में लगे कंप्यूटर में किसी भी तरह की कोई दिक्कत आती है तो वह तुरंत ही समाधान करते हैं। इसके अलावा सभी थानों में एफ आई आर दर्ज करने के लिए चल रहे सॉफ्टवेयर सीसीटीएनएस में किसी भी तरह की कोई रुकावट आती है तो तुरंत पुलिस हेड क्वार्टर से संपर्क साध कर उनका समाधान करते हैं।

डीसीपी मुख्यालय डॉ० अर्पित जैन ने बताया कि पुलिस आयुक्त महोदय ड्यूटी में तैनात सभी अधिकारियों/ पुलिसकर्मियों की सभी तरह की वेलफेयर संबंधित आवश्यक चीजों का पूरा ध्यान रखते हैं और इसके अलावा अच्छी ड्यूटी करने वाले पुलिस कर्मचारियों को समय-समय पर प्रथम श्रेणी प्रशंसा पत्र देकर उनका मनोबल बढ़ाते रहते हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More