Homeप्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने वालों को अब 7 लाख रुपये देगी...

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने वालों को अब 7 लाख रुपये देगी मोदी सरकार, ऐसे करें अप्लाई

Published on

सरकार लगातार लोगों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने में तत्परता से लगी हुई है। काफी ऐसी स्कीमें हैं जिसके ज़रिये आप रोज़गार प्राप्त कर सकते हैं। इन्हीं में एक है प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना। इस योजना के तहत आप एक निश्चित आमदनी के प्रति आश्वस्त हो जाते हैं और रही बात पूंजी की, तो सरकार इसमें 7 लाख रुपये तक की मदद करती है।

काफी बार ऐसा देखा गया है कि जब भी कोई व्यक्ति अपना काम शुरू करने का सोचता है तो उसके अड़ंगे में बहुत सी चीज़े आती हैं। व्यक्ति के जेहन में सबसे पहले 2 समस्या आती है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने वालों को अब 7 लाख रुपये देगी मोदी सरकार, ऐसे करें अप्लाई

किसी भी बिजनेस में काफी लखतरा होता है। लेकिन जहां खतरा नहीं वहां कमाई भी नहीं। हर व्यक्ति को अपना कारोबार खोलने से पहले जो समस्या आती है उनमे पहली समस्या पूंजी की और दूसरी रोजगार के चयन की। इन दोनों समस्या का एक हल है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की ओर से शुरू की गई जन औषधि केंद्र योजना।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने वालों को अब 7 लाख रुपये देगी मोदी सरकार, ऐसे करें अप्लाई

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना केंद्र की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है। लोग इसमें रूचि लेने लगे हैं। देश के हर कोने में यह केंद्र खोले जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने भारत को 7500वां जन औषधि केंद्र देश को समर्पित किया है कुछ समय पहले। 7 मार्च को जन औषधि दिवस के मौके पर उन्होंने साल भर के अंदर जन औषधि केंद्रों की संख्या 10 हजार तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है।

हर वर्ग के लोग इसको खोलने में रूचि दिखा रहे हैं। कमाई का साधन यह बन सकता है। युवा भी इसमें खासी रूचि दिखाने लगे हैं। जन औषधि केंद्र यानी कम कीमत पर दवाएं उपलब्ध कराने के लिए शुरू की गई स्कीम। इसके जरिये सरकार लोगों को सस्ती दरों पर दवाएं उपलब्ध करा रही है। सरकार इस स्कीम के जरिए देश के कई हिस्सों में प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आम लोगों को प्रोत्साहित कर रही है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने वालों को अब 7 लाख रुपये देगी मोदी सरकार, ऐसे करें अप्लाई

इन्हें खोलने के लिए रोज़ाना लाखों आवेदन सरकार के पास आ रहे हैं। हर राज्य में इन्हें खोला जा सकता है। इन्हें खोलने के लिए सरकार ने तीन तरह की कैटेगरी बनाई है. पहली कैटेगरी में कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, कोई डॉक्टर या पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर जन औषधि केंद्र खोल सकता है. दूसरी कैटेगरी में ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट अस्पताल, स्वयं सहायता समूह आदि आते हैं. वहीं, तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों की तरफ से नॉमिनेट की गई एजेंसियां आती हैं। इसे खोलने के लिए आपको इसके लिए आपको http://janaushadhi.gov.in/online_registration.aspx पर जा कर आवेदन फार्म डाउनलोड करना होगा।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...