Online se Dil tak

20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी

फरीदाबाद शहर में प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है, फिर चाहे वह वायु प्रदूषण हो या पानी प्रदूषण.लेकिन अब सरकार द्वारा प्रदूषण को खत्म करने के कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। केंद्र सरकार से मिले ₹20 करोड़ से नगर निगम ने वाटर मैनेजमेंट को लेकर काम भी शुरू कर दिया है।

शहर के पांच बड़े पार्कों में मिनी एसटीपी लगाने के लिए जगह भी फाइनल कर ली गई है जिसकी मंजूरी नगर निगम हॉर्टिकल्चर ब्रांच के चीफ इंजीनियर द्वारा दी गई।

20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी
20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी

प्रदूषण को नियंत्रित रखने के लिए नगर निगम पूरी कोशिश कर रहा है। मिनी एसटीपी के लिए चुने गए पांच बड़े पार को मैसेज हर एक पार्क में 1-1 एमएलडी कामिनी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाएगा जिनके द्वारा पार्कों की सिंचाई का काम किया जाएगा।

पार्क में पहले से लगे फव्वारों को भी इसी ट्रीटमेंट द्वारा चलाया जाएगा। न केवल पानी प्रदूषण बल्कि वायु प्रदूषण को लेकर भी नगर निगम ने फैसला लिया है।

20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी
20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी

वायु प्रदूषण को खत्म करने के लिए नगर निगम चयनित कुछ महत्वपूर्ण जगहों पर एयर प्यूरीफायर मशीन लगाएगा योगी आसपास की हवा को शुद्ध करने में सहायता करेगा। नगर निगम प्रदूषण को खत्म करने के लिए जो भी प्रयास कर रहा है यदि इनमें सफल होता है तो केंद्र सरकार की तरफ से दूसरी ₹20 करोड़ की किस्त जल्दी जाएगी। जिससे कि पर्यावरण को शुद्ध रखने में और अधिक सहायता मिल सके।

अधिक पर्यावरण वाले 16 शहरों का चयन पूरे देश में से क्या गया है। इन 16 शहरों में से फरीदाबाद को भी चुना गया है। इन सभी शहरों में प्रदूषण को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने ₹20 करोड़ की एक किस्त दी है।

20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी
20 करोड़ रूपये की लागत से शुद्ध होगा फरीदाबाद शहर का हवा-पानी

यदि बेहतर परिणाम सामने आते हैं तो केंद्र सरकार जल्द ही दूसरी किस्त भी इन शहरों को देगी। प्रदूषण को खत्म करने के लिए केवल सरकारी नहीं बल्कि आम जनता को भी आगे आना पड़ेगा। लोग यदि बालकों के अन्य स्थानों पर में गंदगी ना करें, कूड़े कचरे को डस्टबिन में डालें तो पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने में अधिक समय नहीं लगेगा।

Read More

Recent