Pehchan Faridabad
Know Your City

सुन्दर चित्रकारियों व मूर्तियों से सजेंगे फरीदाबाद शहर के 138 मेट्रो पिलर

फरीदाबाद को भले ही स्मार्ट सिटी का नाम दे दिया गया है.लेकिन फरीदाबाद शहर के लोगों को प्रदूषण, पानी की समस्या जैसी अन्य अनेकों किल्लतों सामना सामना करना पड़ रहा है। ना केवल पानी की कमी बल्कि और की सप्लाई में भी अनेक खामियां हैं।

फरीदाबाद शहर को एक समान पानी का वितरण हो सके इसके लिए सप्लाई व्यवस्था की मॉनिटरिंग के लिए फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड की बोर्ड बैठक में स्काडा प्रोजेक्ट को भी मंजूरी दे दी गई है। रेनीवेल लाइन, बूस्टर पेपिंग स्टेशन से लेकर शहर में लगे ट्यूब बैलों से निकलने वाले पानी की निगरानी कंट्रोल रूम से इसी प्रोजेक्ट के द्वारा की जाएगी।

पानी की सही जगह व समय पर सप्लाई के साथ साथ बूस्टर व पंपिंग स्टेशनों पर खराब हो चुके पंप, मोटर व अन्य दिक्कतों को दूर करने का काम भी शुरू किया जाएगा। शहर में प्रदूषण को खत्म करने और पानी की सप्लाई को सुधारने के अलावा शहर को सुंदर बनाने में भी सरकार द्वारा कदम उठाए जा रहे हैं।

शहर के 138 मेट्रो पिलर पर सुंदर चित्रकारी कर शहर को सवारने व चौराहों पर मूर्ति लगाने के प्रोजेक्ट को स्मार्ट सिटी लिमिटेड की बोर्ड मीटिंग द्वारा मंजूरी मिली है। शहर की खामियों को दूर करने व फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी बनाने के इस काम को 10 से 15 दिनों में शुरू कर दिया जाएगा।

पानी की सप्लाई को दुरुस्त करने के अलावा पानी की चोरी को रोकने में निगरानी रखने का भी काम किया जाएगा। कुछ लोग बूस्टिंग स्टेशनों से अपने इलाकों के सेक्टरों में ज्यादा पानी की सप्लाई करा लेते हैं। जिस कारण अन्य क्षेत्रों में पानी की भरपाई नहीं हो पाती।

यही कारण है कि नगर निगम अपनी ट्यूबवेल व रेनीबेल की लाइनों से 200 एमएलडी पानी ही उपलब्ध करा पा रहा है, जब भी शहर की 20 लाख आबादी को रोज 260 एमएलडी पानी की जरूरत होती है।

हरियाणा अर्बन लोकल बॉडी के ओडिशनल चीफ प्रिंसिपल सेक्रेटरी, चेयरमैन एसएन रॉय व फरीदाबाद से सीईओ डॉक्टर गरिमा मित्तल फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड की बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मीटिंग में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े। मीटिंग में प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने की मंजूरी दी गई।

स्काडा, मेट्रो पिलर की सुंदरता व चौराहों पर मूर्ति लगाने के इस प्रोजेक्ट पर स्काडा सिस्टम द्वारा ₹28 करोड़ खर्च किया जाएगा। ₹28 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए तीन कंपनियों में से एक को फाइनल कर लिया गया है जिन्होंने इस प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई थी। यह कंपनी 10 से 15 दिनों में काम शुरू कर प्रोजेक्ट को पूरा करने की तैयारी करेगी।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More